अनुराग ठाकुर ने किया ऐलान, यह शख्स होगा टीम इंडिया का कोच

धर्मशाला (23 जून): बीसीसीआई ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके टीम इंडिया के नए कोच के नाम का एलान कर दिया है। टीम इंडिया के कोच को लेकर धर्मशाला में बीसीसीआई की 3 दिनों से मीटिंग चल रही थी। जिसके बाद पूर्व लेग स्पिनर अनिल कुंबले को एक साल के लिए टीम इंडिया का कोच नियुक्त किया गया।

टीम इंडिया के कोच के लिए पिछले डेढ़ साल से लगातार मेहनत की जा रही थी। बोर्ड के साथ-साथ सचिन सौरव और लक्ष्मण की नजर इसपर बनी हुई थी। पहले तो ये ऐलान 24 तारीख को होना था, लेकिन आज सुबह BCCI अध्यक्ष ने एक बयान जारी कर साफ कर दिया कि कोच का ऐलान 24 तारीख को नहीं 23 जून को होगा।

डंकन फ्लेचर का कार्यकाल साल 2015 वर्ल्ड कप के बाद खत्म हो गया, लेकिन इससे पहले ही BCCI ने साल 2014 में इंग्लैंड दौरे के लिए रवि शास्त्री को भारतीय टीम का डायरेक्टर बना सभी को चौंका दिया था। विदेशों में टीम इंडिया के प्रदर्शन को सुधारने के लिए रवि शास्त्री का भारतीय टीम का डायरेक्टर नियुक्त किया गया था। शास्त्री का कार्यकाल भी वर्ल्ड टी-20 2016 के बाद खत्म हो गया, जिसके बाद BCCI ने शुरु की नए कोच की विराट खोज।

दुनिया को दिखाने के लिए तो BCCI ने रवि शास्त्री के जाने के बाद से ये खोज शुरू की लेकिन असल में खोज पिछले साल जून में ही शुरू हो गई थी, जब BCCI ने सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण को मिलाकर एक क्रिकेट अडवाइजरी कमेटी का गठन किया था। तभी से BCCI ने टीम इंडिया के कोच की खोज शुरू कर दी थी। जिसके बाद इन तीन दिग्गज खिलाड़ियों ने अपने हिसाब से नए कोच को चुनने का एक रोडमैप तैयार किया।

टीम इंडिया के ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व खिलाड़ियों के कोचिंग एक्सपीरियंस को जाना। बांग्लादेश में खेले गए एशिया कप में भी कईं पूर्व खिलाड़ियों से मुलाकात की। वर्ल्ड टी-20 में भारत आए हर दिग्गज खिलाड़ी से ये जाना कि क्या को टीम इंडिया के कोच बनना चाहते हैं और फिर आखिर में IPL 2016 में भी इस खोज को जारी रखा, जिसके बाद 10 जून को BCCI ने ये कोच पद का आवेदन निकाला, जिसमें कुल 57 क्रिकेटर्स ने अपलाई किया।

आज हर शख्‍स टीम इंडिया का कोच बनना चाहता है। शायद तभी टीम इंडिया के पूर्व डायरेक्टर रवि शास्त्री, मुख्य चयनकर्ता संदीप पाटिल और चयनकर्ता विक्रम राठौर सरीखे बड़े नाम इस रेस में शामिल हो गए। लेकिन क्रिकेट अडवाइजरी कमेटी ने सिर्फ 21 नामों को ही इस पद के लिए शॉर्टलिस्ट किया, जिसमें संदीप पाटिल और विक्रम राठौर का नाम नहीं था।

कोलकाता में 21 जून को क्रिकेट अडवाइजरी कमेटी के सामने 7 लोगों ने अपनी प्रेसेंटेशन दी, लेकिन तब भी ये कमेटी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई। इसके बाद सौरव, सचिन और लक्ष्मण ने कोच पर नॉन स्टॉप मंथन किया। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली जो इस कमेटी का अहम हिस्सा हैं साथ ही क्रिकेट एसोशिएसन ऑफ बंगाल के अध्यक्ष भी हैं। सौरव की सिफारिश व सचिन और लक्ष्मण की हामी के बाद तैयार हुए टीम इंडिया के नए कोच।