'कुलभूषण को गिरफ्तार नहीं किया तालिबान से खरीदा गया'

नई दिल्ली (3 अप्रैल): जर्मनी के एक डिप्लौमेट ने दावा किया है भारत के 'कथित जासूस' कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों ने नहीं बल्कि तालिबान ने पकड़ा था। तालिबान ने कुलभूषण जाधव को अगवा कर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी को बेच दिया। जर्मन डिप्लौमेट का बयान भारत के इस संदेह की पुष्टि करता है कि जाधव को कहीं और से अगवा किया गया था।

पाकिस्तानी दावे के विपरीत मीडिया रिपोर्ट्स में यह बात सामने आयी थी कि जाधव को ईरान से अगवा किया गया था। 'डॉन'  के अनुसार, पाक में जर्मनी के पूर्व राजदूत डॉक्टर गुंटर मुलक ने पाकिस्तान इंस्टिट्यूट ऑफ इंटरनैशनल अफेयर्स के एक कार्यक्रम में पाकिस्तानी दावे की पोल खोली। हालांकि पाकिस्तान का दावा है कि कुलभूषण जाधव को बलूचिस्तान के चमन में गिरफ्तार किया गया।

चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे पर मुलक ने चिंता जाहिर करते हुए चेताया, 'सावधान रहिए, चीनी आपके लिए धरती पर जन्नत नहीं लाने वाले।' गिलगित-बाल्टिस्तान से होकर गुजरने वाले इस कॉरिडोर को लेकर भारत ने भी चिंता जतायी है।