जाधव पर हमने 16 बार काउंसलर एक्सेस मांगा, पाकिस्तान ने नहीं दिया: विदेश मंत्रालय


नई दिल्ली(10 मई): भारत ने पाकिस्तान की जेल में बंद अपने नागरिक कुलभूषण जाधव के लिए 16 बार काउंसलर एक्सेस मांगा।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने बुधवार को ये भी बताया कि जाधव की मां द्वारा दायर पिटीशन के स्टेटस के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है।


- बता दें कि जाधव को भारत का जासूस बताकर पाकिस्तानी की मिलिट्री कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी। मंगलवार देर रात इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने इस पर रोक लगा दी थी।


- बुधवार को प्रेस ब्रीफिंग के दौरान बागले से मीडिया ने काउंसलर एक्सेस पर सवाल किए। इस पर बागले ने कहा- हमने 16 बार जाधव से मुलाकात के लिए पाकिस्तान से काउंसलर एक्सेस मांगा। लेकिन, हर बार इसे खारिज कर दिया गया।


- बागले के मुताबिक, जाधव की मां ने भी इस बारे में पिटीशन दायर की थी, लेकिन उसके स्टेटस के बारे में फिलहाल, कोई जानकारी नहीं है। स्पोक्सपर्सन ने कहा- इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने हमारी अपील पर उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी भेजी है।


- नीदरलैंड्स के हेग में स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस की ओर से कुलभूषण की फांसी पर रोक लगाने के बाद पाकिस्तान ने कोई रिएक्शन नहीं दिया है।


- कानून के जानकारों का कहना है कि पाकिस्तान इंटरनेशनल कोर्ट का फैसला माने ऐसा जरूरी नहीं है। हालांकि, फैसला नहीं मानने पर वह इस इंटरनेशनल ज्यूडिशियल फाेरम में अलग-थलग पड़ जाएगा। अगर वह किसी मामले में शिकायत लेकर पहुंचा तो उसकी सुनवाई नहीं होगी।


- फांसी पर लगी रोक के बाद सुषमा स्वराज ने मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात 12:06 बजे ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि मैने कुलभूषण की मां से बात कर उन्हें इंटरनेशनल कोर्ट के फैसले की जानकारी दी है।


- इसके साथ एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने बताया कि कुलभूषण के केस में भारत की ओर से सीनियर लॉयर हरीश साल्वे इंटरनेशनल कोर्ट में दलीलें पेश कर रहे हैं।


- बता दें कि इंटरनेशनल कोर्ट में भारत की तरफ से सीनियर एडवोकेट हरीश साल्वे ने 8 मई को पिटीशन दायर की थी। उन्होंने मांग की कि भारत के पक्ष की मेरिट जांचने से पहले जाधव की फांसी पर रोक लगाएं।


- अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने एक टीवी चैनल से बातचीत में इसे भारत की बहुत बड़ी जीत बताया है। हालांकि, रोहतगी जाधव की सलामती के बारे में कोई जानकारी नहीं दे सके।