कुलभूषण जाधव के कान-गले और सिर पर दिखे चोट के निशान, छिपाने के लिए पाक ने चली ये चाल

नई दिल्ली (26 दिसंबर ): पाकिस्‍तान की जेल में जासूसी के आरोप में बंद पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव से सोमवार को उनकी मां-पत्‍नी ने मुलाकात की। पाकिस्तान ने दुनिया को दिखाने के लिए कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी से मुलाकात कराई, लेकिन यह सिर्फ रस्मी मुलाकात ही थी। 

शीशे की दीवार के उस पार जाधव को बैठाकर फोन से बात करा पाकिस्तान अपनी पीठ खुद थपथपा रहा, लेकिन जो तस्वीर सामने आई है उसने कई आशंकाओं को गहरा कर दिया है।

इस दौरान उनकी जो तस्‍वीरें सामने आयी हैं उसमें जाधव के कान और सिर चोट के कई निशान हैं। इससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि उन्‍हें वहां यातनाएं दी जा रही हैं।

मुलाकात के दौरान जाधव नीले रंग के कोट में दिख रहे हैं। इस दौरान जाधव के दाहिने कान पर गहरे रंग का निशान दिख रहा है। उनके सिर और गले पर भी कुछ निशान देखे गए हैं, जिनके बारे में आशंका है कि वे चोट के निशान हैं। 

इसके अलावा जाधव को बातचीत के दौरान कोट पहनाकर शीशे पीछे बिठाया गया। जानकार मान रहे हैं कि उनकी चोटों को छिपाने के लिए पाकिस्तान ने यह चाल चली। तस्वीरों को देखकर उनके कंधे में चोट होने का अंदाजा भी लगाया जा रहा है।

मुलाकात के बाद प्रेस कांफ्रेंस में पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने जाधव की मेडिकल रिपोर्ट भी पेश की लेकिन इसके सही होने को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। इस रिपोर्ट में जाधव को पूरी तरह से स्वस्थ बताया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें कोई फ्रैक्चर या कोई बड़ी चोट नहीं है।

जानकारों का कहना है कि मेडिकल रिपोर्ट पहले से ही टाइप थी और उस पर हाथ से लिखकर 22 दिसंबर की तारीख डाली गई है। साथ ही तारीख की लिखावट से लिखने वाले के कम पढ़ा लिखा होने का पता चलता है। साथ ही रिपोर्ट में हाइट की स्पेलिंग भी गलत लिखी हुई है। इसके अलावा जानकार इस रिपोर्ट पर इसलिए भी सवाल उठा रहे हैं कि उसका मेडिकल टेस्ट किसी पाकिस्तानी डॉक्टर से न कराकर दुबई के डॉक्टर से कराया गया और यह डॉक्टर प्लास्टिक सर्जन है।