Blog single photo

कुलभूषण जाधव पर सुनवाई कल तक टली, साल्वे ने किया पाकिस्तान को बेनकाब

कुलभूषण जाधव केस में हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) में सोमवार को पहले दौर की जिरह खत्म हो गई। अब जिरह का दूसरा दौर 19 फरवरी दिन मंगलवार को दोपहर ढाई बजे से साढ़े पांच बजे तक

                                                                                       Image: Google

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 फरवरी): कुलभूषण जाधव केस में हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) में सोमवार को पहले दौर की जिरह खत्म हो गई। अब जिरह का दूसरा दौर 19 फरवरी दिन मंगलवार को दोपहर ढाई बजे से साढ़े पांच बजे तक चलेगा जिसमें पाकिस्तान अपनी बात रखेगा। 

इंटरनेशनल कोर्ट में पाकिस्तान के झूठों का पर्दाफाश करते हुए भारत की तरफ से वकील हरीश साल्वे ने कहा कि कुलभूषण जाधव को काउंसलर एक्सेस के लिए पाकिस्तान को तीन महीने का समय क्यों चाहिए। साल्वे ने कहा कि बिना काउंसलर एक्सेस के जाधव की हिरासत को गैर कानूनी घोषित करना चाहिए। पाकिस्तान को बिना देरी किए काउंसलर एक्सेस देना चाहिए। 

इसी मामले में दूसरे दौर की जिरह 20 फरवरी को शाम साढ़े सात बजे से नौ बजे रात तक चलेगी जिसमें भारत अपना पक्ष रखेगा। अगले दिन 21 फरवरी को रात नौ बजे से 10.30 बजे तक पाकिस्तान अपनी बात रखेगा। 20 फरवरी को भारत अपना जवाबी तर्क पेश करेगा, वहीं, पाकिस्तान 21 फरवरी को अपना अंतिम पक्ष कोर्ट में दर्ज कराएगा। भारत की तरफ से हरीश साल्वे हेग कोर्ट में वकालत कर रहे हैं तो पाकिस्तान की ओर से ख्वार कुरैशी को पेश हुए हैं. पाकिस्तान ने इस मामले के लिए अपना एक विशेष दल भेजा है जिसकी अगुआई वहां के अटॉर्नी जनरल अनवर मंसूर खान कर रहे हैं। 

इंटरनेशनल कोर्ट से भारत का कहना है कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को काउंसलर एक्सेस न देकर विएना कन्वेंशन का उल्लंघन किया है। जबकि पाकिस्तान शुरू से कहता आया है कि जाधव को जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, लिहाजा कॉन्सुलर एक्सेस का अधिकार नहीं दिया जा सकता।  पाकिस्तान का एक तर्क यह भी है कि उसका भारत के साथ एक करार है जिसमें जासूसी के आरोप में गिरफ्तार व्यक्ति को कॉन्सुलर एक्सेस देने का प्रावधान नहीं है। 

आईसीजे में अगले चार दिन चलने वाली सुनवाई में दो मुद्दों पर बहस होगी. पहला, विएना संधि का उल्लंघन और दूसरा, सजा देने के मामले में पाकिस्तान का अधिकार क्षेत्र क्या है। कोर्ट दोनों देशों का पक्ष सुनने के बाद अपना अंतिम फैसला सुनाएगा। कोर्ट में कुलभूषण जाधव का मामला 2016 से अटका हुआ है। पाकिस्तान का दावा है कि उसने जाधव को जासूसी के आरोप में 3 मार्च 2016 को बलूचिस्तान प्रांत से गिरफ्तार किया। 

जाधव पर ये आरोप भी लगे हैं कि उन्होंने ईरान के रास्ते अवैध तरीके से पाकिस्तान में प्रवेश किया। पिछले साल 25 मार्च को पाकिस्तान ने जाधव का एक कथित गोपनीय बयान जारी किया जिसमें जाधव यह कहते सुने गए कि वे इंडियन नेवी के कार्यरत अधिकारी हैं और उस वक्त वे भारतीय खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनलिसिस विंग (रॉ) के लिए काम कर रहे थे। 

NEXT STORY
Top