घर में टॉयलेट बनवाने के लिए अनशन पर बैठी छात्रा

नई दिल्ली(16 जुलाई): अब तक आपने महिलाओं को सुसराल में शौचालय नहीं होने के कारण शादी करने से मना करने के बारे में सुना होगा, लेकिन 15 साल की एक लड़की इस वजह से अनशन पर बैठ गई क्योंकि उसके घर में शौचलय नहीं था।

ये मामला है कॉपल के गंगावाटीतालुक जिले का। क्लास 10 की छात्रा माल्लामा भागलपुर दानापुर के एक सरकारी स्कूल की स्टुडेंट है। वह 12 जुलाई को अनशन पर बैठी। उसने ऐसा तब किया जब उसने अपनी मां से शौचालय बनवाने के लिए गुजारिश और बेकार चली गई। जिल पंचायत के सीईओ ने छात्रा से अनशन तोड़ने को कहा।   

क्या कहा छात्रा ने

छात्रा ने कहा कि मैं अपने स्कूल के मुहिम को धन्यवाद देने चाहती हूं। हमारा बड़ा परिवार है और मेरी मां का बजट सीमित था। जब मैं उनको सरकार से दलित परिवार को मिलने वाली 15 हजार की सब्सिडी के बारे में बताया तो उन्होंने कहा शौचालय अमीरों के लिए होता है। इसके बाद मैंने निर्णय ले लिया कि जब तक मेरा परिवार इसको नहीं मानता मैं अनशन पर रहूंगी। छात्रा की मां ने कहा कि उनको सरकार से मिलने वाली इस सब्सिडी के बारे में नहीं पता था।