फर्जी खाते में जमा कराए 6.6 करोड़, CBI की रडार पर

कोलकाता (19 दिसंबर): नोटबंदी के बाद कालेधन के नटवरलालों ने बैंककर्मियों से साठगांठ कर अपनी काली कमाई को बड़ी मात्रा में सफेद किया है। इस सिलसिले में रोजाना लाखों-करोड़ों के नए नोट जगह-जगह से जब्त किया जा रहा है।

इसी मिलीभगत के आरोप में एक्सिस बैंक के बाद अब यूनयन बैंक ऑफ इंडिया की मुश्किलें बढ़ती दिख रही है। फर्जी अकाउंट्स और बैंक अधिकारियों की सांठगांठ के आरोपों के बाद CBI ने कोलकाता के UBI के खिलाफ जांच शुरू कर दी है। इससे पहले संदिग्ध अकाउंट्स मामले में केस दर्ज होने के बाद प्रवर्तन निदेशालय यूबीआई की कोलकाता ब्रांच के अधिकारियों से पूछताछ की।

CBI ने आज UBI में 9 संदिग्ध अकाउंट्स मिलने पर केस दर्ज किया है। इन सभी संदिग्ध अकाउंट्स में कथित तौर पर 6.6 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं। मनी लॉंड्रिंग की आशंका के चलते CBI ने इस मामले की जांच ईडी को सौंप दी है।

गौरतलब है कि बीते दिनों एक्सिस बैंक में नोटबंदी के बाद सामने आए फर्जीवाड़े से बैंक को काफी फजीहत झेलनी पड़ी थी। जिसके बाद एक्सिस बैंक के अधिकारियों और कर्मचारियों की गड़बड़ियों पर बैंक की एमडी और सीईओ शिखा शर्मा ने देश की जनता से माफी मांगी थी। शिखा शर्मा ने रविवार को अपने बयान में कहा था कि बैंक के कर्मचारियों की करतूतों की वजह से वह काफी शर्मिंदा हैं।