ब्लॉग के जरिए विपक्ष पर बरसे वित्त मंत्री, कहा- मोदी बनाम भीड़ होगा 2019 का चुनाव

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 जनवरी): वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एकबार फिर विपक्ष पर करारा हमला किया है। अमेरिका में इलाज करा रहे वित्त मंत्री इसबार ब्लॉग के जरिए विपक्ष पर हमला किया है साथ ही उन्होंने 2019 के आम चुनाव के मोदी बनाम भीड़ करार दिया है। अरुण जेटली ने कोलकाता में शनिवार को ममता बर्नजी की रैली में विपक्षी नेताओं के एक मंच पर जमा होने पर भी सवाल उठाया है। इन्होंने ममता बनर्जी की रैली को मोदी बनाम शोर करार दिया। उन्होंने यह भी कहा कि यह रैली एंटी मोदी रैली थी, लेकिन इसमें राहुल गांधी, केसीआर और मायावती शामिल नहीं हुए। ममता की रैली में शामिल 2/3 लोग ऐसे थे जो पूर्व में बीजेपी के साथ काम कर चुके हैं। ये वो लोग थे जो अपनी निजी महत्वाकांक्षाओं के लिए इकट्ठा हुए और इन्होंने कोई सकारात्मक विचार नहीं रखा।

साथ ही उन्होंने अपने ब्लॉग में लिखा कि 'दीदी को अपनी राजनीति के समर्थन में पीछे से कुछ लोगों की मदद चाहिए। इसके लिए उन्होंने दिल्ली के अति-उत्साही मुख्यमंत्री से लेकर बीजेपी के कुछ अंसतुष्ट लोगों को भी साथ कर लिया।' आरजेडी, डीएमके और नैशनल कॉन्फ्रेंस की मौजूदगी को राज्य के राजनीतिक समीकरणों के मुताबिक कांग्रेस के साथ रहने में फायदे वाला करार दिया। मायावती पर निशाना साधते हुए अरुण जेटली ने लिखा कि, 'उत्तर प्रदेश की बहनजी का फंडा साफ है पूरा जोर लगाओ। उन्हें यकीन है कि उनके प्रदेश में चुनाव सिर्फ जातीय समीकरण से ही जीते जा सकते हैं।'

वित्त मंत्री ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि 'हर चुनाव की अपनी एक पटकथा होती है और इस बार विपक्ष के सामने दो ही उद्देश्य हैं। उन्होंने ने आरोप लगाया कि पीएम मोदी के खिलाफ दुष्प्रचार और चुनावी अंकगणित का फायदा उठाकर अधिकतम गठजोड़ कर सत्ता में वापसी ही विपक्ष का अजेंडा है।'  उन्होंने अपने ब्लॉग में दावा किया कि प्रधानमंत्री मोदी के कार्यकाल को लेकर लोगों में कोई निराशा नहीं है। जनता सरकार के कामकाज से संतुष्ट है। '2014 में जातिवादी, वंशवदी किलों को गिराते हुए प्रधानमंत्री मोदी सत्ता तक पहुंचे। विपक्ष इस वक्त पीएम के लगातार ऑफिस में रहने को ही एक मुद्दा बना रहा है, लेकिन हम बीजेपी के सदस्य उनके इस कदम का स्वागत करते हैं।'