इस मामले में धोनी से आगे निकले कप्तान कोहली

कोलंबो (14 अगस्त): भारत ने श्रीलांका के खिलाफ खेले गए तीन टेस्ट मैचों की सीरीज पर 3-0 के कब्जा कर लिया है। टीम इंडिया ने श्रीलंका को पल्लेकेले टेस्ट में पारी और 171 रनों से मात दे दिया है। इस जीत के साथ ही विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम विदेशी धरती पर अब 7 टेस्ट मैच जीत चुकी है। वे धोनी को पीछे छोड़कर विदेश में भारत के दूसरे सबसे सफल कप्तान बन गए हैं। विराट की कप्तानी में टीम इंडिया ने विदेश में 13 मैच खेल लिए हैं, जिनमें से 7 जीते लिए हैं। धोनी की कप्तानी में भी भारत ने विदेश में खेले 30 मैचों में से 6 मैच जीते थे। जबकि विराट ने विदेशी धरती पर करियर के 12वें मैच में ही धोनी की बराबरी कर ली थी। विदेश में सबसे ज्यादा मैच जीतने का भारतीय रिकॉर्ड पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के नाम पर है, जिनकी कप्तानी में भारत ने 11 मैच जीते थे।


विराट कोहली भारतीय टेस्ट क्रिकेट के 85 सालों के इतिहास में पहले ऐसे कप्तान हैं, जिनकी अगुवाई में टीम इंडिया ने पहली बार विदेश में 3 मैचों की टेस्ट सीरीज में 3-0 से वाइटवॉश किया है। उनसे पहले कोई भी भारतीय कप्तान विदेशी सरजमीं पर 3 या उससे ज्यादा टेस्ट मैचों की सीरीज को क्लीन स्वीप नहीं कर सका है।
ये पहला मौका है जब भारत ने विदेशी सरजमीं पर 2 से ज्यादा मैचों की टेस्ट सीरीज में पहली बार व्हाइटवाश किया है। इससे पहले टीम इंडिया ने 2004 में बांग्लादेश और 2005 में जिम्बाब्वे में जरूर सीरीज क्लीन स्वीप की थी, लेकिन वो सिर्फ 2 टेस्ट मैचों की सीरीज थी।


साल 1967 में टीम इंडिया न्यूजीलैंड दौरे पर गई थी जहां उसने 4 टेस्ट मैचों की सीरीज पर 3-1 से जीत हासिल की थी। अब 50 साल बाद एक बार फिर टीम इंडिया ने विदेशी धरती पर श्रीलंका के खिलाफ सीरीज में 3 टेस्ट मैच जीतने का कारनामा किया है।