ऐसे पता चलेगा घर में मंडरा रहे हैं भूत-पिशाच!

नई दिल्‍ली (5 जनवरी): भले ही भूत-पिशाच पर विश्‍वास करने वाले लोगों की संख्‍या बहुत ही कम होती है, लेकिन हर किसी के दिल में इनका डर जरूर रहता है। हम जहां रहते हैं वहां कई ऐसी शक्तियां होती हैं, जो हमें दिखाई नहीं देती किंतु हम पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं जिससे हमारा जीवन अस्त-व्यस्त हो उठता है और हम दिशाहीन हो जाते हैं।

घर में कई बार कुछ ऐसे एहसास होने लगते हैं जिससे किसी के होने का संकेत मिलता है जैसे अजीबोगरीब आवाजे सुनाई देना, किसी के चलने की, खुरचने की़, पायलों की छमछम, दरवाजा खटकाने की, कुछ गिरने की आदि। ऐसी आवाजें सुनाई देना गलत संकेत हैं।

घर के किसी भी सदस्य ने कोई भी खुशबू वाला पदार्थ न लगाया हो फिर भी घर से यकायक इत्र अथवा परफ्यूम की महक आने लगे तो हो सकता है कोई प्रेत आत्मा आपके अंग-संग अपना बसेरा बना रही हो।

पृथ्वी पर प्रेत आदि शक्तियों का अस्तित्व अनेक स्थानों पर होता है। जीवित व निर्जीव वस्तुओं में वे अपने लिए केंद्र बना सकती हैं। जहां वे अपनी शक्ति संग्रहित कर सकती हैं, उसे केंद्र कहते है। केंद्र उनके लिए प्रवेश करने का स्थान होता है तथा वे वहां से शक्ति प्रक्षेपित कर सकती हैं।

प्रेत आदि अपने लिए साधारणत: मनुष्य, वृक्ष, घर, बिजली के उपकरण आदि में केंद्र बनाती हैं। जब वे मनुष्य में अपने लिए केंद्र बनाती हैं, तब उनका उद्देश्य होता है अपनी शेष बची इच्छाओं व वासनाओं की पूर्ति करना।