Blog single photo

जानिए महिला टीम के नए कोच डब्ल्यूवी रमन के बारे में सबकुछ

भारतीय महिला टीम के कोच पद के लिए पूर्व सलामी बल्लेबाज डब्ल्यूवी रमन का नाम चुना गया है। पीटीआई सूत्रों के मुताबिक 28 उम्मीदवारों के इंटरव्यू के बाद डब्ल्यूवी रमन को इस पद के लिए चुना गया है।भारतीय पुरुष टीम को विश्व कप दिलाने वाले पूर्व कोच गैरी कर्स्टन, पूर्व सलामी बल्लेबाज डब्ल्यूवी रमन और वेंकटेश प्रसाद का नाम गुरुवार (20 दिसंबर) को इंटरव्यू के बाद महिला टीम के कोच के पद के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया था। इनमें से डब्ल्यूवी रमन के नाम पर मुहर लगी है। बीसीसीआई की सलेक्शन कमेटी में पूर्व कप्तान कपिल देव, अंशुमन गायकवाड़ और एस रंगास्वामी शामिल थे, जिन्होंने बोर्ड से इन चुने हुए नामों की सिफारिश की।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 दिसंबर): भारतीय महिला टीम के कोच पद के लिए पूर्व सलामी बल्लेबाज डब्ल्यूवी रमन का नाम चुना गया है। पीटीआई सूत्रों के मुताबिक 28 उम्मीदवारों के इंटरव्यू के बाद डब्ल्यूवी रमन को इस पद के लिए चुना गया है।भारतीय पुरुष टीम को विश्व कप दिलाने वाले पूर्व कोच गैरी कर्स्टन, पूर्व सलामी बल्लेबाज डब्ल्यूवी रमन और वेंकटेश प्रसाद का नाम गुरुवार (20 दिसंबर) को इंटरव्यू के बाद महिला टीम के कोच के पद के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया था। इनमें से डब्ल्यूवी रमन के नाम पर मुहर लगी है। बीसीसीआई की सलेक्शन कमेटी में पूर्व कप्तान कपिल देव, अंशुमन गायकवाड़ और एस रंगास्वामी शामिल थे, जिन्होंने बोर्ड से इन चुने हुए नामों की सिफारिश की।

दरअसल, गैरी कर्स्टन की नियुक्ति में अनिश्चितता बनी हुई थी, क्योंकि दक्षिण अफ्रीकी कोच इंडियन प्रीमियर लीग फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के साथ अपना पद छोड़ने को तैयार नहीं हैं। सूत्रों के अनुसार उन्हें ऐसा करने के लिए मनाने की कोशिश की जा रही थीं। बता दें कि इस पद के लिए 28 आवेदन मिले थे, जिसमें से चुने गए उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था। इनमें वेंकटेश प्रसाद, मनोज प्रभाकर, ट्रेंट जॉनस्टन, दिमित्री मास्करेन्हास, ब्रैड हॉग और कल्पना वेंकटाचार शामिल रहे।सूत्रों के अनुसार तीन से मिलकर इंटरव्यू लिया गया। 

वहीं, गैरी कर्स्टन सहित पांच आवेदकों से स्काइप और एक से फोन पर इंटरव्यू लिया गया। गैरी कर्स्टन जब कोच थे, तभी भारतीय पुरुष टीम ने 2011 विश्व कप जीता था। वह 2008 से 2011 तक तीन वर्षों के लिए भारतीय टीम के मुख्य कोच रहे थे। इसके बाद उन्होंने 2011 से 2013 तक दक्षिण अफ्रीका को कोचिंग दी। वह इस समय इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) के मुख्य कोच हैं।बता दें कि तीन महिलाएं भी कोच की दौड़ में शामिल थीं, जिनमें गार्गी बनर्जी, आरती वेदया के नाम था। 

हाल ही में वेस्टइंडीज में खेले गए टी-20 विश्व कप के बाद मिताली राज और कोच रोमेश पोवार के बीच अनबन के कारण भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने कोच पद के लिए दोबारा से विज्ञापन दिया था। टीम के कोच रहे रमेश पोवार का कार्यकाल 30 नवंबर को समाप्त हो गया था।

जानें डब्ल्यूवी रमन के बारे में सबकुछ

चेन्नै में जन्में रमन ने भारत के लिए 11 टेस्ट और 27 वनडे खेले हैं। रमन की गिनती इस समय देश के सबसे योग्य कोचों में की जाती है। वह तमिलनाडु और बंगाल जैसी बड़ी रणजी ट्रोफी टीम को कोचिंग भी दे चुके  हैं और भारत अंडर-19 टीम के साथ भी काम कर चुके हैं। उन्हें 1992-93 दौरे के दौरान साउथ अफ्रीका में शतक जड़ने वाले पहले भारतीय के रूप में भी याद किया जाता है। इस पद के लिए बीसीसीआई को 28 आवेदन मिले थे जिसमें से चुने गए उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया गया। इनमें वेंकटेश प्रसाद, मनोज प्रभाकर, ट्रेंट जॉनस्टन, दिमित्री मास्करेन्हास, ब्रैड हॉज और कल्पना वेंकटाचार शामिल रहे। हालांकि कर्स्टन और रमन को शॉर्टलिस्ट किया गया और बाद में पूर्व भारतीय ओपनर को तरजीह दी गई।  

सचिन की कप्तानी में खेले रमन के नाम 11 टेस्ट में 448 रन दर्ज हैं जिसमें 4 अर्धशतक शामिल हैं। वनडे इंटरनैशनल में उनके नाम 27 मैचों में कुल 617 रन दर्ज हैं। उन्होंने वनडे में 1 शतक और 3 अर्धशतक जड़े हैं। वहीं, 32 फर्स्ट क्लास क्रिकेट मैचों में उन्होंने 7939 रन बनाए जिनमें 19 सेंचुरी और 36 हाफ सेंचुरी जड़ी, इसके अलावा 85 विकेट भी लिए। उन्होंने करियर का आखिरी टेस्ट मैच साउथ अफ्रीका के खिलाफ जनवरी 1997 में केप टाउन में दिग्गज सचिन तेंडुलकर  की कप्तानी में खेला था। कर्टनी वॉल्श को किया आउट लंबे कद के रमन ने अपना करियर स्पिनर के रूप में शुरू किया था और वह बल्लेबाज की सोच को पढ़ने की काबिलियत रखते हैं। टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने अपने पहले ही ओवर में विकेट भी ली। उन्होंने कर्टनी वॉल्श को आउट किया था, लेकिन बाद में रमन को एक बल्लेबाज के रूप में ही पहचान मिली। साल 1992-93 के साउथ अफ्रीका के दौरे पर सेंचुरियन में खेले गए वनडे मुकाबले में सेंचुरी जड़ने वाले वह पहले भारतीय क्रिकेटर बने।  

NEXT STORY
Top