केजरीवाल का पंजाब के लोगों से वादा, 12 घंटे फ्री दूंगा बिजली

कुंदन सिंह, मोंगा (11 सितंबर): पंजाब के किसानों को लुभाने के लिए किसान घोषणा पत्र में आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने वादों की झड़ी लगा दी। पंजाब के मोगा में किसान रैली के दौरान अरविंद केजरीवाल ने किसान घोषणा पत्र जारी किया।

आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि पंजाब में किसानों पर करीब 92 हजार करोड़ का कर्ज है, ऐसे में अगर उनकी पार्टी सत्ता में आई तो कर्ज में डूबे पंजाब के किसानों को बड़ी राहत देगी।

यह की घोषणा...- कर्ज के लिए जमीन या घर की कुर्की नहीं होगी।- गरीब किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा।- 18 हजार किसानों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी।- बीते 10 साल में आत्महत्या करने वाले परिवारों को मुआवजा मिलेगा।- हर परिवार को 10 लाख मुआवजा और सरकारी नौकरी दी जाएगी।- सर छोटू राम एक्ट को फिर लाया जाएगा, इसके तहत किसी भी हाल में ब्याज मूलधन से ज्यादा नहीं होगा।

इससे पहले केजरीवाल बता चुके हैं कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आई तो छोटे किसानों का सारा कर्ज़ माफ़ कर देगी और बाकी किसानों का ब्याज माफ़ हो जाएगा। आम आदमी पार्टी ने सत्ता में आने पर दिसम्बर 2018 तक पंजाब के किसान को कर्जमुक्त बनाने का वादा किया है। अपनी किसान घोषणा पत्र में केजरीवाल ने पंजाब के किसानों को लुभाने वाले कई और वादे भी किए हैं।

केजरीवाल ने ऐलान किया है कि आपदा की हालत में...

- 20 हजार प्रति एकड़ का मुआवजा दिया जाएगा।- अनाज मंडी पहुंचने के 24 घंटे में खरीदने की गारंटी दी जाएगी।- 72 घंटे में किसानों का पैसा दिया जाएगा।- ओल्ड एज पेंशन 500 रूपए से बढ़ाकर 2000 रूपए मिलेगा।- आटा दाल योजना में 10 लाख नए परिवारों को जोड़ा जाएगा।- बेटी की शादी के लिए, 51 हजार रूपए शगुन के तौर पर मिलेगा।- किसान-खेतीहर मजदूरों को 5 लाख का मेडिकल बीमा दिया जाएगा।- पंजाब में चीनी मिलों को शुरू किया जाएगा।

केजरीवाल ने किसानों के सामने मुफ्त बिजली का दांव भी खेला है। किसान मेनिफेस्टो में वादा किया है कि किसानों को 12 घंटे मुफ्त बिजली मिलेगी, साथ ही मोटर के लिए बिजली का बिल नहीं लगेगा। किसान रैली में केजरीवाल अपने विरोधियों पर जमकर बरसे। इन्होंने पंजाब को नशे में धकेलने वालों के खिलाफ भी केस करने का ऐलान किया।

पंजाब में आम आदमी पार्टी के अंदर हुए विवाद और फूट की खबर के बाद केजरीवाल की पंजाब में के पहली रैली थी। इस रैली में जुटे समर्थन से आम आदमी पार्टी को विधानसभा चुनावों के लिए अपनी तैयारियों को आंकने का मौका मिल सकता है।