आज से 10 दिनों तक किसानों का देशव्यापी आंदोलन

नई दिल्ली (1 जून): आज से देश के किसान आंदोलन पर हैं। 10 दिनों के किसानों के इस देशव्यापी आंदोलन से आम लोगों पर खासा असर पड़ सकता है। अपने आंदोलन के दौर में किसान ना दूध, ना सब्जी और ना ही फलों की सफ्लाई करेंगे। किसानों की कई मांगों को लेकर राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ ने देशव्यापी गांव बंद आंदोलन का आह्वान किया है यानी गांवों से शहर में फल, सब्जी, दूध नहीं जाने दिया जाएगा।किसानों की प्रमुख मांगें...- देश के किसानों का पूरा कर्ज माफ किया जाए- सभी फसलों पर लागत से डेढ़ गुना ज्यादा मूल्य दिया जाए- छोटे किसानों की आय सुनिश्चित की जाए- फल, सब्जी, दूध के दाम भी लागत के आधार पर डेढ़ गुना समर्थन मूल्य पर तय किए जाएंकिसानों का कहना है कि उन्हें उनके उत्पाद का सही दाम नहीं मिल रहा है। सरकार से वो बार बार मांग कर रहे हैं। लेकिन सरकार के कानो पर जूं तक नहीं रेंग रही है। किसानों का कहना है कि आंदोलन का मकसद आमजन को तकलीफ पहुंचाना नहीं हैं, बल्कि किसानों की अनदेखी कर रही सरकार का ध्यान आकृष्ट कराना है। साथ ही किसानों की मांग है कि उन्हें भी उचित दाम मिले। उनके मुताबिक सरकार की गलत नीतियों के कारण लगातार कर्ज के बोझ तले दबे जा रहा है और आत्महत्या करने को मजबूर है।