कीर्ति आजाद ने पार्टी को नोटिस का जवाब दिया, आरोपों को नकारा

नई दिल्ली(1 जनवरी): बीजेपी से निलंबित सांसद कीर्ति आजाद ने पार्टी को नोटिस का जवाब भेजा है। कीर्ति ने सभी आरोपों को नकारते हुए अपने सस्पेंशन पर ही सवाल उठाते हुए इसे गलत करार दिया है।

पार्टी ने कीर्ति आजाद को सस्पेंड करने के बाद 14 दिन के अंदर जवाब देने को कहा था।

कीर्ति ने कहा कि बिहार चुनाव के बाद मैंने नेतृत्व पर कोई सवाल खड़े नहीं किए। आगे उन्होंने कहा कि 21 दिसंबर की लोकसभा की कार्यावाही में मैंने हिस्सा लिया। डीडीसीए मामले का पार्टी से कोई संबंध नहीं है।किसी भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में मैंने बीजेपी और जेटली का नाम नहीं लिया। कीर्ति ने अपने जवाब के साथ चार सीडी और तीन लेटर भी भेजे हैं।

क्या आरोप लगाए 

कीर्ति ने डीडीसीए में घोटाले का मामला उठाते हुए जेटली पर आरोप लगाए थे। इस पर बीजेपी ने उन पर एंटी-पार्टी एक्टिविटीज का आरोप लगाया था। आजाद संसद में भी जेटली का नाम लिए बिना उन पर निशाना साध चुके हैं। उन्होंने डीडीसीए घोटाले की सीबीआई जांच की मांग की थी। 1999 से 2013 तक अरुण जेटली डीडीसीए के प्रेसिडेंट रहे हैं।