'ढिशूम' के पहले गाने में जैकलीन ने ऐसा क्या किया कि मच गया बवाल...

आशिता सेठ, मुंबई, (15 जून): फिल्म उड़ता पंजाब की आंधी अभी रुकी भी नहीं है कि एक और तूफान ने दस्तक दे दी है। फिल्म 'ढिशूम' के पहले गाने में जैकलीन का मटकना 'सिख' कम्यूनिटी को पसंद नहीं आ रहा है।

जी हां, उड़ता पंजाब के बाद अब फिल्म ढिशूम पर बवाल मच गया है। फिल्म के एक गाने में जैकलीन ने 'कृपाण' जैसी चीज़ कमर से बांध रखी है। जिसको लेकर सिख कम्यूनिटी नाराज़ में नाराजगी देखने को मिल रही है। इस नाराज़गी के साथ गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के जनरल सेक्रेटरी, मंजिंदर सिंह सिरसा सेंसर बोर्ड के पास पहुंच गए है।

सबसे पहले हम आपको गुरुद्वारा प्रबंधन समिति की नाराज़गी के बारे में बताते है। फिल्म ढिशूम के पहले गाने 'सौ तरह के' में फिल्म की लीड एक्ट्रेस जैकलीन फर्नाडिस शॉर्ट ड्रैस पहने अपनी कमर पर कृपाण जैसी चीज़ बांधे नज़र आ रही है।  गाने के दौरान जैकलीन कई सेक्सी और सिडक्टिव मूव्स दे रही है। बस, यही सब चीज़े गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के गले के नीचे नहीं उतर रहीं।

सिखों कम्यूनिटी इसे धार्मिक प्रतीक का अपमान मान रही है। इसीलिए मनजिंदर सिंह सिरसा ने सेंसर बोर्ड चीफ को लेटर लिखा है। इस लेटर में फिल्म ढिशूम के डायरेक्टर रोहित धवन को इस गाने से जैकलीन वाले सीन्स डिलीट करने का निर्देश देने के लिए कहा गया है।

इतना ही नहीं, गुरुद्वारा प्रबंधन समिति फिल्म 'ढिशूम' की कास्ट और डायरेक्टर से माफी मांगने की अपील भी कर रही है। सेंसर बोर्ड के सामने इस चीज़ को सिखों के सेंटिमेंट हर्ट करना बताया जा रहा है और इसीलिए जल्द से जल्द फिल्मे के ट्रेलर और गानों से जैकलीन के किरपान वाले सीन्स हटाने की और मांग की जा रही है।

इतना ही नहीं, गुरुद्वारा प्रबंधन समिति की तरफ से साफ कह दिया गया है कि अगर इसपर डायरेक्टर रोहित धवन और सेंसर बोर्ड की तरफ से एक्शन नहीं लिया गया तो वो क्रिमिनल प्रोसीडिंग्स की तरफ जाने को मजबूर हो जाएंगे।

आपको बता दें कि फिलहाल फिल्म ढिशूम की कास्ट और डायरेक्टर की तरफ से कोई कदम या स्टेटमेंट सामने नहीं आई है। न ही सेंसर बोर्ड ने इस मामले पर अपना कोई फैसला सुनाया है।