ये है रिश्तों का खूनी तानाशाह! देता है रूह कंपाने वाली मौत

नई दिल्ली (16 फरवरी): तानाशाह किम जोंग जब सजा देने पर आता है तो ये नहीं देखता कि उसके सामने कौन है। ये बात हम बेवजह नहीं कह रहे। किम जोंग ने अपनी बुआ को जहर दिलवाकर मार दिया था और अपने फूफा को 120 शिकारी कुत्तों के पिंजरे में फिंकवा दिया था, जो 3 दिन से भूखे थे। क्रूरता में किम जोंग का मुकाबला कोई नहीं कर सकता।

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग ने इसी तरह की खौफनाक सजा मुकर्रर की थी, अपने सगे फूफा जैंग सोंग थाएक के लिए। दुनिया के इस सबसे जल्लाद तानाशाह ने अपने फूफा पर सत्ता के खिलाफ गद्दारी का आरोप लगया था और बदले में उन्हें रूह कंपाने वाली मौत दी थी।

अपने फूफा को सजा देने के लिए किम जोंग ने उन्हें अपना सबसे बड़ा राजनीतिक विरोधी साबित करते हुए 12 दिसंबर 2013 को भूखे कुत्तों का निवाला बना दिया। उस वक्त हॉंगकॉंग के अखबारों में छपी खबरों के मुताबिक जैंग सोंग को नंगा करके ऐसे पिंजरे में डाल दिया गया था जिसमें 120 शिकारी कुत्तों को रखा गया था।

उत्तर कोरिया में मौत की सजा के दिल दहला देने वाले तरीके को क्वैन जे कहते हैं, जिसका मतलब है ऐसी मौत जिससे इंसानियत की रुह कांप जाए। इस घटना के बाद नए साल यानी 2014 की शुरुआत में अपने पहले संबोधन में किम जोंग ने फूफा की हत्या पर इशारों में कहा था कि सत्ता की खिलाफत बर्दाश्त नहीं की जाएगी और 'गुटबाजी की गंदगी' का अंजाम यही होगा।

आपको बता दें कि दिसंबर 2011 में जब किम जोंग के पिता की अचानक मौत हो गई थी। तब किम जोंग को सत्ता संभालने का अनुभव नहीं था उस वक्त फूफा थाएक ने ही अनौपचारिक तौर पर उत्तर कोरिया का शासन संभाला था। फूफा ने ही भतीजे किंम जोग को सत्ता चलाने के गुर सिखाए थे, लेकिन बढ़ती सत्ता की चाहत में खुद फूफा ही उसे सबसे बड़ा दुश्मन नजर आने लगा। नतीजा ये हुआ कि थाएक पर भ्रष्टाचार और देशद्रोह का आरोप लगाकर उन्हें मरवा दिया गया।

दरअसल जैंग सोंग थाएक का कद उत्तर कोरिया में बहुत बड़ा हो गया था। किम जोंग उन के बाद जैंग सोंग थायक दूसरे शक्तिशाली शख्स थे। थाएक के बढ़ते कद से किम जोंग को अपनी कुर्सी खतरे में नजर आने लगी थी। तानाशाह किम जोंग अपने फूफा को सबसे बड़ा सियासी दुश्मन मानने लगा।

अपने फूफा की हत्या करवाने वाले किम जोंग पर अपने ही परिवार के और भी लगों को मरवाने का आरोप है। उसके बारे में कहा जाता है कि उसे सनक है, लोगों की जिंदगी छीनने की। कोई नहीं जानता कि वो कब, किस बात पर नाराज हो जाए और किसकी जान ले ले।