तानाशाह के तुगलकी फरमान के बाद नॉर्थ कोरिया में क्रिसमस नहीं मनाया गया

नई दिल्ली (27 दिसंबर):  किम जोंग उन उत्तर कोरिया का एक ऐसा तानाशाह जिसकी सनक के किस्से पूरी दुनिया में मशहूर हैं। उसकी क्रूरता का एक किस्सा खोजेंगे तो आपको दस मिल जाएंगे। वो ऐसा तानाशाह है जो किसी पर रहम नहीं करता किसी को मौत की सजा देना उसके लिए मजाक है। उसके सामने जुबान खोलना मना है। अपनी सनक के लिए दुनिया भर में मशहूर उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग ने क्रिसमिस पर लोगों के लिए एक और तुगलकी फरमान सुनाया।उत्तर कोरिया के लोगों को क्रिसमस पर जीसस क्राइस का जन्मदिन मनाने की जगह अपनी दादी किम जोंग सुक का जन्मदिन मनाने का फरमान सुनाया।

बता दें कि किम जोंग की दादी जोंग सुक का जन्म 1919 में क्रिसमस की पूर्व संध्या पर हुआ था। जोंग सुक एक एंटी जापानी गुरिल्ला और कम्यूनिस्ट एक्टिविस्ट थी। वह उत्तर कोरिया के पहले शासक किम प्रथम संग की पत्नी और किम जोंग इल की मां थी। वह 1949 में संदिग्ध हालातों में एक मस्जिद में मारी गई थी।क्रिसमिस के दिन लोगों ने किम जोंग सुक को श्रद्धांजलि दी। तानाशाह ने सभी लोगों को अपनी दादी का जन्मदिन सेलिब्रेट करने को मजबूर किया।