मिसाइल परीक्षण के बाद किम की धमकी- अब जद में है अमेरिका

नई दिल्ली(29 जुलाई): उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने कहा कि अंतर्महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का दूसरा परीक्षण यह दिखाता है कि उनका देश अमेरिका के मुख्य भूभागों तक हमला कर सकता है। परीक्षण के घंटों बाद विश्लेषकों ने कहा कि लॉस एंजिलिस और शिकागो समेत अमेरिका के ज्यादातर इलाके अब उत्तर कोरियाई हथियारों की जद में हैं.

- कोरियाई सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने कहा कि ह्वासोंग-14 मिसाइल के 3,725 किलोमीटर की अधिकतम ऊंचाई तक पहुंचने और जापान के समुद्र में गिरने से पहले 998 किलोमीटर की दूरी तक जाने के बाद किम ने 'बड़ी संतुष्टि' जताई।

- एजेंसी ने कहा कि यह परीक्षण इस बात की पुष्टि करने के लिए किया गया कि मिसाइल अधिकतम दूरी तक जाए और साथ ही मिसाइल के अन्य तकनीकी आयामों की जांच करने के लिए किया गया। एजेंसी ने कहा कि यह मिसाइल 'बड़े आकार वाले, भारी परमाणु आयुध' ले जाने में सक्षम है।

- विश्लेषकों ने अनुमान जताया कि उत्तर कोरिया की पहली आईसीबीएम अलास्का तक पहुंच सकती है तथा यह नई मिसाइल और अधिक दूरी तक मार करने में सक्षम है।

- एजेंसी ने किम के हवाले से कहा कि इस परीक्षण से आईसीबीएम प्रणाली पर देश की विश्वसनीयता और 'किसी भी क्षेत्र तथा किसी भी समय' प्रक्षेपित करने की क्षमता की पुष्टि होती है। इसकी जद में अब 'समस्त' अमेरिका का मुख्य भूभाग है।

- एजेंसी के अनुसार, किम ने कहा कि यह परीक्षण अमेरिका को 'गंभीर चेतावनी' देता है जो युद्ध और कड़े प्रतिबंधों की धमकियों के साथ 'बेमतलब में अपनी तारीफ खुद करता रहता है।'