पहले परमाणु हमला नहीं करेंगे, एटॉमिक एनर्जी से बिजली बनाएंगे-किम जोंग उन

नई दिल्ली (9 मई): नॉर्थ कोरिया के राष्ट्रपति किम जोंग उन ने कहा है कि अगर दुश्मन के हथियार उनके देश की संप्रभुता के लिए खतरा साबित नहीं होंगे तब तक वो अपनी आर्मी को परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की इजाज़त नहीं देंगे। उन्होंन कहा कि हम परमाणु शक्ति का उपयोग हथियारों के साथ-साथ देश की ऊर्जा आवश्यकता में भी करेंगे।

सैंतीस साल बुलायी गयी कॉंग्रेस में उन ने देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने का वादा किया और अपना पांच साल का रोड मैप देश के सामने रखा। उन ने यह भी कहा कि वो पूरी ईमानदारी से परमाणु अप्रसार और दुनिया को परमाणु हथियारों से मुक्त रखने के प्रयास करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि वो उन सभी देशों से अपने संबंध सुधारने के पक्षधर हैं जिनसे किन्हीं कारण तनाव या तकरार पैदा हुई है। अपने पिता किम जोंग इल के निधन के बाद देश की सत्ता संभालने वाले किम जोंग उन के भाषण को देश-विदेश सकारात्मक और जिम्मदारी से भरा भाषण बताया जा रहा है।

नॉर्थ कोरिया पर नज़दीक निगाह रखने वाले माइकल मैडन का कहना है कि किम जोंग इल के भाषणों में देश के प्रति जिम्मेदारी का अभाव रहता था। यह पहली बार है कि नॉर्थ कोरिया के किसी राष्ट्राध्यक्ष ने देश के प्रति जिम्मेदारी को सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया है। हालांकि कुछ लोगों का यह भी कहना है कि किम जोंग उन के इस भाषण से ज्यादा उत्साहित होने की जरूरत नहीं है। वो पहले भी ऐसा ही कह चुके हैं और उसके तुरंत बाद ही उन्होंने अमेरिका और साउथ कोरिया को नेस्तानाबूद करने की धमकियां दी थीं। उन्होंने परमाणु हथियारों के संबंध में संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव का भी उल्लंघन किया था।