काबुल में संदिग्ध आतंकियों के चंगुल से छुड़ाई गई भारतीय महिला

नई दिल्ली(23 जुलाई): अफगानिस्तान के काबुल में करीब डेढ़ महीने पहले अगवा की गई कोलकाता की रहने वाली जूडिथ डीसूजा को रिहा करवा लिया गया है ।एक अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन (एनजीआे) में काम करने वाली और संदिग्ध आतंकवादियों द्वारा पिछले महीने काबुल में अगवा कर ली गई एक भारतीय महिला को मुक्त करा लिया गया है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर यह जानकारी दी।  आगा खान फाउंडेशन में एक वरिष्ठ तकनीकी सलाहकार के रूप में काम करने वाली 40 वर्षीय जूडिथ डीसूजा को काबुल से उनके कार्यालय से बाहर 9 जुलाई को अगवा कर लिया गया था।स्वराज ने ट्वीट किया, ‘‘मैं आपको यह सूचित करते हुए खुश हूं कि जूडिथ डीसूजा को रिहा करा लिया गया है ।’’ उन्होंने जूडिथ की रिहाई सुनिश्चित करने में अफगान अधिकारियों की ‘मदद और समर्थन’ के लिए भी धन्यवाद दिया है ।

विदेश मंत्रालय कोलकाता निवासी जूडिथ की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए अफगान अधिकारियों के साथ लगातार संपर्क में था। स्वराज ने जूडिथ की रिहाई सुनिश्चित करने में अफगानिस्तान में भारतीय राजदूत मनप्रीत वोहरा के प्रयासों की भी तारीफ की ।जूडिथ के परिवार वालों ने पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिख कर उनकी रिहाई सुनिश्चित करने के लिए हस्तक्षेप का आग्रह किया था जिससे वह घर लौट सके । मोदी ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी से जुडिथ की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए प्रयासों में तेजी लाने का आग्रह किया था।