खादी ग्रामोद्योग के कैलेंडर पर बवाल, काली पट्टी बांधकर कर्मचारियों ने किया विरोध

नई दिल्ली (13 जनवरी): खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग यानी KVIC के 2017 के कैलेंडर और डायरी में महात्मा गांधी की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर छपने पर सियासी घमासान तेज हो गया है। एक तरफ जहां विपक्षी पार्टियों ने इसे बापू का अपमान बताया है। वहीं खादी ग्रामोद्योग के कर्मचारी भी इसका विरोध कर रहे हैं।  

भारी तादाद में खादी ग्रामोद्योग के कर्मचारी इसके विरोध में उत्तर आएं हैं। बड़े पैमाने पर कर्मचारियों ने भूख हड़ताल की और महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने मुंह पर काली पट्टी बांधकर घंटों बैठे रहे।

खादी ग्रामोद्योग के कर्मचारियों का कहना है कि मोदी सरकार सुनियोजित तरीके से महात्मा गांधी के विचारों, दर्शन और आदर्शो से मुक्ति पाने की कोशिशों से दुखी हैं। इस तरह की कोशिश पिछले साल तब की गई थी जब प्रधानमंत्री के फोटो को कैलेंडर में शामिल किया गया था। इस मामले को केवीआईसी कर्मचारी संघ ने प्रबंधन के सामने उठाया था। तब प्रबंधन द्वारा वादा किया गया था कि भविष्य में ऐसा नहीं होगा। लेकिन साल साल पूरी तस्वीर ही साफ हो गई। कैलेंडर से तस्वीर के साथ गांधीजी की शिक्षाएं भी गायब कर दी गईं।

जिस जगह चरखा चलाते हुए महात्मा गांधी की तस्वीर छपती थी अब उसी जगह पर चरखा चलाते हुए पीएम मोदी की तस्वीर छपी है। महात्मा गांधी की जगह मोदी की तस्वीर छपने के बाद विवाद शुरु हो गया है।