ऑड-ईवन पर केजरीवाल सरकार ने खर्च किए इतने करोड़ रुपए

नई दिल्ली(21जनवरी): देश की राजधानी दिल्ली में साल की शुरुआत में 15 दिनों के लिए ऑड-ईवन फॉर्मूले का प्रयोग किया गया। इस पूरे प्रयोग में केजरीवाल सरकार ने 20 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च किए।

इस राशि में से सबसे ज्यादा रकम पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ाने के लिए किराए की बसों में खर्च हुई। इन बसों पर कुल 14 करोड़ रुपए खर्च किए गए। वहीं 3.5 करोड़ रुपए नागरिक सुरक्षा के लिए स्वयंसेवकों पर खर्च किए गए।

वहीं इस स्कीम के विज्ञापनों पर कुल 4 करोड़ रुपए का खर्च आया। इसमें 3 करोड़ रुपए इसके प्रमोशन पर और एक करोड़ रुपए थैंक्सगिविंग विज्ञापन पर खर्च किए गए। दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने एक अखबार को बताया कि दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन ने 1200 अतिरिक्त बसों को किराए पर लिया था। इन बसों को 42 रुपए प्रति किलोमीटर के हिसाब से रखा गया था। कॉर्पोरेशन ने कहा था कि कम से कम एक दिन में वह 225 किलोमीटर का भुगतान करेगा।

कॉर्पोरेशन को इन बसों से हर दिन 23 लाख रुपए की कमाई हुई और 15 दिन की कुल कमाई 3.5 करोड़ रुपए तक रही। वहीं सरकार को इन 15 दिनों में 2 करोड़ रुपए चालान से मिले। इसके अलावा एक अधिकारी ने बताया कि इस स्कीम को सफल बनाने के लिए कुल 5000 वॉलनटियर्स को लगाया गया था और हर वॉलनटियर को 13 दिनों तक रोज के 500 रुपए का भुगतान किया गया।