अलगाववादियों को दिखाया आइना, सेना में बड़ा अफसर बनेगा कश्मीर का यह युवा


श्रीनगर (6 अक्टूबर): आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद भले ही कुछ लोगों ने अपने फायदे के लिए जम्मू-कश्मीर में हिंसा फैलाकर युवाओं को गुमराह किया हो, लेकिन दक्षिणी जम्मू-कश्मीर के अशांत जिला अनंतनाग के जुबैर अहमद इटू ने प्रतिष्ठित सर्विसेज सिलेक्शन बोर्ड (एसएसबी) की परीक्षा में चौथी पोजिशन हासिल की है।

जुबैर थल सेना में कमिशंड अधिकारी के तौर पर नियुक्त होंगे। अनंतनाग जिला के करीब एक छोटे गांव के रहने वाले जुबैर अहमद इंजिनियरिंग ग्रैजुएट हैं, जिन्होंने इस साल मई में एसआरएम यूनिवर्सिटी दिल्ली से इंजिनियरिंग पूरी की है।

जुबैर ने स्पेशल सिलेक्शन सेंटर (नॉर्थ) से परीक्षा उत्तीर्ण की थी और अब चेन्नै में ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकैडमी में 49 हफ्ते की ऑफिसर ट्रेनिंग जॉइन करेंगे। चेन्नई अकैडमी में ट्रेनिंग के बाद जुबैर थल सेना में लेफ्टिनेंट के पद पर नियुक्त होंगे। जुबैर का चयन ऐसे समय में हुआ है जब घाटी में अशांति का दौर चल रहा है।

जुबैर का मानना है कि युवा शिक्षा के माध्यम से ही कुछ हासिल कर सकते हैं। जुबैर द्वारा ऐसे समय में एसएसबी की परीक्षा उत्तीर्ण करना काफी मायने रखती है, जब मौजूदा अशांति के माहौल में सबसे ज्यादा हिंसा उनके जिले में ही हुई है। इस साल एक और कश्मीरी युवा नबील अहमद वानी ने बीएसएफ भर्ती परीक्षा में टॉप करके राज्य का नाम रोशन किया था।