कश्मीरी युवाओं ने एकबार फिर अलगाववादियों के मुंह पर जड़ा तमाचा

नई दिल्ली (28 मई): कश्मीर घाटी के अलगाववादियों के मुंह पर एकबार फिर वहां के युवाओं तमाचा लगा है। कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकवादी सबजार भट के मारे जाने के बाद घाटी में अशांति के बीच सेना में जूनियर कमिशन अधिकारी और अन्य पदों पर चयन के लिए आज करीब 800 कश्मीरी युवा संयुक्त प्रवेश परीक्षा में बैठे।

आपको सबजार भट के मारे जाने के बाद अलगाववादियों ने रविवार और सोमवार को बंद बुलाया है। परीक्षा में शामिल होकर युवाओं ने जता दिया कि उनकी राह अलागाववादियों की राह से जुदा है और वो बहकावे में नहीं आने वाले हैं।

विभिन्न विरोधी गुटों से बंद के आह्वान की परवाह ना करते हुए 799 उम्मीदवार पट्टन और श्रीनगर में रविवार को हुई संयुक्त प्रवेश परीक्षा में बैठे। यहां युवाओं ने अपने उज्ज्वल भविष्य के लिए एकबार फिर अलगाववादियों की अपील को घता बताते हुए परीक्षा में शामिल हुए। कई इलाकों में कर्फ्यू के बावजूद तादाद में कश्मीर युवा परीक्षा देने के लिए पहुंचे।