अजहर के 'जरगर' का आतंकी प्लान

नई दिल्ली(15 अक्टूबर): कश्मीर घाटी में एक बार फिर आतंकी हमला हुआ है। शुक्रवार को श्रीनगर के जकूरा में सशस्त्र सीमा बल के काफिले पर आतंकियों ने हमला किया। हमले में 1 जवान शहीद हो गया, जबकि 8 जवान घायल हुए हैं। हमले की जिम्मेदारी अल-उमर-मुजाहिदीन संगठन ने ली है। इसका चीफ मौलाना मसूद का खास है।  

- श्रीनगर के बाहरी इलाके के ज़कूरा पुलिस स्टेशन से 200 मीटर की दूरी पर ये हमला हुआ।

- बताया जा रहा है कि आतंकवादियों ने एसएसबी के जवानों पर धोखे से हमला किया। अंधेरे की आड़ में आतंकियों ने पीछे से अचानक फायरिंग शुरु कर दी। 

- आतंकियों के इस हमले में 1 जवान शहीद हो गया। शहीद का नाम घनश्याम है। हमले में 8 जवान घायल भी हुए हैं जिनमे से 2 की हालत गंभीर बताई जा रही है। 

-हमला करने के बाद दोनों आतंकी अंधेरे की आड़ में फरार हो गए। इलाके में घेराबंदी कर उनकी तलाश की जा रही है। 

-ज़कूरा हमले की जिम्मेदारी अल-उमर-मुजाहिदीन ने ली है। 

- अल-उमर-मुजाहिदीन संगठन 1992 -93 में बना था। 

- इसका मुखिया मुश्ताक ज़रगर है। 

- 1999 में हुए ICA814 हाइजैक में मौलाना मसूद अज़हर के साथ मुश्ताक की भी रिहाई हुयी थी।

- मुश्ताक मसूद का बेहद करीबी है।

- करीब 20 साल बाद ये संगठन फिर से सक्रीय हुआ है। 

- घाटी में 20 साल बाद नए संगठन ने सिर उठाया है ये सुरक्षा एजेंसियों के लिए चिंता की बात है। गृहमंत्री ने एसएसबी के डीजी से बात की। डीजी अर्चना रामसुंदरम आज जकूरा जाएंगी जहां जवानों पर हमला हुआ।