फेक न्यूज पर रिएक्ट न करें कांग्रेस नेता, कश्मीर के लिए भारतीय चैनल देखें- गवर्नर सतपाल मलिक

 न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 अगस्त): कश्मीर को लेकर राज्यपाल सत्यपाल मलिक और कांग्रेस  सांसद राहुल गांधी आमने-सामने हो गये हैं। राहुल गांधी की तरफ से जम्‍मू-कश्‍मीर के हालात पर चिंता जताए जाने के बाद राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने मंगलवार देर शाम को फिर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त की। मलिक ने कहा कि राहुल गांधी संभवतः सीमा पार से घाटी की स्थिति को लेकर फैलाए जा रहे फेक न्यूज पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं। उन्होंने कांग्रेस नेता को सलाह दी कि वह कश्मीर की स्थिति को जानने के लिए भारतीय न्यूज चैनल्स देखें जो घाटी की सही स्थिति के बारे में बता रहे हैं। इससे पहले गवर्नर ने राहुल गांधी को विशेष विमान भेजने की बात कही थी ताकि वह घाटी की वास्‍तविक स्थिति का जायजा ले सकें।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी से कश्मीर के हालात पर जवाब मांगा था। उन्होंने कहा था कि जम्मू-कश्मीर में हिंसा की खबरें हैं और पीएम मोदी को देश को सच बताना चाहिए कि वास्तव में कश्मीर में क्या हो रहा है? इस पर जम्मू-कश्मीर के गवर्नर ने सोमवार को जवाब दिया था कि वह घाटी आने के लिए राहुल गांधी को विशेष विमान भेजेंगे। मलिक के बयान पर पलटवार करते हुए मंगलवार सुबह राहुल गांधी ने कहा कि उन्हें हवाई जहाज न दिया जाए लेकिन विपक्षी दलों के एक शिष्टमंडल के साथ जम्मू-कश्मीर में घूमने और लोगों से मिलने की आजादी दी जाए। उन्होंने ट्वीट कर ये बातें कहीं।

राहुल गांधी के इस ट्वीट के बाद राजभवन की ओर से एक बार फिर जवाब दिया गया है। इसमें गवर्नर ने राहुल पर मामले का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया है। गवर्नर की ओर से कहा गया है कि राहुल गांधी शायद घाटी की स्थिति को लेकर सीमा पार से फैलाए जा रहे फेक न्यूज पर प्रतिक्रिया दे रहे थे जबकि घाटी में स्थिति शांतिपूर्ण है। उन्होंने कहा कि राहुल को भारतीय टीवी चैनल्स से अपने-आपको चेक करना चाहिए, जो कश्मीर की सही स्थिति को रिपोर्ट कर रहे हैं।

राज्यपाल मलिक ने इसके अलावा राहुल गांधी को सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार द्वारा घाटी की स्थिति को लेकर दाखिल किए गए विवरण को भी पढ़ने की सलाह दी है। राज्यपाल ने कहा कि राहुल गांधी विपक्षी दलों के नेताओं के शिष्टमंडल के साथ कश्मीर आने की मांग करके मामले का राजनीतिकरण कर रहे हैं ताकि आम लोगों की समस्याएं और बढ़ें। राज्यपाल ने कहा कि गांधी की विपक्षी दलों के के शिष्टमंडल के साथ घाटी के दौरे की कई शर्तें हैं, जिसमें नजरबंद किए गए मुख्यधारा के नेताओं से मुलाकात भी शामिल है। उन्होंने कहा कि मामले से स्थानीय पुलिस और प्रशासन को अवगत करा दिया गया है। 

Images Courtesy:Google