करवाचौथ...पति ही नहीं घर के बड़े-बुजुर्गों का भी सम्मान जरूरी

नई दिल्ली (8 अक्टूबर): आज करवा चौथ है। महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए कामना के साथ करवा चौथ का व्रत करती हैं।  आज पूजा शाम 5:55 से शाम 7:09 के बीच की जायेगी। आज बार चंद्रोदय 8 अक्टूबर को रात्रि 8 बजकर10 मिनट पर हो रहा है। रात्रि में चंद्रमा को अर्घ्य देकर और पति को छलनी से देखने के बाद इस व्रत का समापन किया जायेगा। चतुर्थी के देवता भगवान गणेश हैं। इस व्रत में गणेश जी के अलावा शिव-पार्वती, कार्तिकेय और चंद्रमा की भी पूजा की जानी चाहिए।

सनातन परंपरा के अनुसार इस दिन चांद देखने से पहले अगर किसी भी महिला ने चांद देखने से पहले अपने सास, मां या किसी भी बुजुर्ग का अनादर करती है तो उस दिन उसका व्रत पूरा नहीं हो पाता। क्योंकि करवाचौथ पर पति की कामना के साथ बड़े बुजुर्गों का भी महत्व होता है। करवा चौथ के व्रत के दिन विवाहित महिलाएं चांद देखने से पहले किसी को भी दूध, दही, चावल, सफेद कपड़ा या कोई भी सफेद वस्तु न दें।