भालू के पीछे 'जानवरों' की फौज, पीट-पीटकर किया बेहोश

बेंगलुरु(14 जनवरी): कर्नाटक में एक पूरा गांव एक भालू के पीछे पड़ गया और बड़ी बेरहमी से भालू को अधमरा कर दिया। चित्रदुर्ग में गांववालों को जैसे ही पता चला कि जंगली भालू गांव के करीब है भालू आया भालू आया का शोर जंगल की आग की तरह फैल गया।  पूरा गांव हाथ में लाठी डंडे लिए भालू के शिकार पर निकल गया। भालू का खौफ इस इलाके में कई दिनों से था इसलिए भालू के खौफ में जी रहे लोगों ने भालू से बदला लेने की ठानी। जंगल का जानवर थोड़ी ही देर बाद घिर गया। वो जाने बचाने के लिए भागने लगा और गांववाले उसपर हमला करते रहे।  इतने लोगों से बचना भालू के लिए मुमकिन नहीं था। वो जंगल और खेतों की तरफ बेताहाशा भागने लगा और लोग उसपर ईंट पत्थर बरसाने लगे। एक जानवर को मारने के लिए पूरा गांव ही जैसे जानवर बन बैठा था। किसी को भालू पर तरस नहीं आ रहा था भीड़ भालू के खून की प्यासी हो चुकी थी। 

पुलिस और वन विभाग के लोग भी पहुंचे लेकिन इतनी बड़ी भीड़ को काबू करना मुमकिन नहीं था। एक तरफ अकेला भालू था और दूसरी तरफ लाठी डंडों से लैस गांववालों की भीड़। भालू ने भी जान बचाने के लिए हमला किया। कई लोग जख्मी हुए लेकिन भीड़ ने भालू का पीछा नहीं छोड़ा।  भालू पर ताबड़तोड़ वार किए गए। भालू ने कई बार पलटवार किया और आखिर में भीड़ से घिर गया। भालू पर तब तक वार होता रहा जबतक वो बेहोश नहीं हो गया। इस इलाके में पिछले 15 दिनों से इस भालू ने आतंक मचा रखा था। भालू ने खेतों में घुसकर कई लोगों को जख्मी किया था यही वजह थी कि भालू को देखते ही गांव के लोग बेकाबू हो गए और उसे खत्म करने के लिए निकल पड़े।  भालू जब बेसुध हो गया तो गांव वालों ने उसे कैद कर लिया। भालू का खौफ खत्म होने के बाद गांववालों ने जश्न मनाया और वन विभाग ने भालू को इलाज के लिए नजदीकी चिड़ियाघर ले गए।