मोदी को घेरने की कवायद, कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में दिखेगी विपक्षी एकता

बेंगलुरु (23 मई): कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी की ताजपोशी के लिए विधानसभा भवन के सामने मंच सजाया जा रहा है, लेकिन मंच से अलग एक और मंच तैयार हो रहा है और वह है देशभर की विपक्षी पार्टियों के शक्ति प्रदर्शन का मंच। कुमारस्वामी का शपथ ग्रहण समारोह कर्नाटक के मुख्यमंत्री की ताजपोशी कम विपक्षी दलों का बीजेपी के खिलाफ शक्ति प्रदर्शन ज्यादा लग रहा है। इसे बीजेपी के खिलाफ 2019 आम चुनावों के लिए अस्तित्व में आ रहे महागठबंधन की झलक की तरह भी देखा जा रहा है। बेंगलुरु के इस सियासी मंच को 2019 के आम चुनावों में बीजेपी के सामने एक बड़ी चुनौती के रूप में देखा जा रहा है। शपथ ग्रहण समारोह में बीजेपी विरोधी पार्टियां 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले अपनी एकता प्रदर्शित करेंगी।समारोह में करीब 265 लोकसभा सीटों के गैर-बीजेपी दावेदारों की ताकत दिखेगी। समारोह में राहुल गांधी और सोनिया गांधी के अलावा विपक्ष के बड़े नेताओं के साथ ही कई राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल होंगे। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू, तेलंगाना के सीएम चंद्रशेखर राव, केरल के सीएम पिनराई विजयन, पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस समारोह में शामिल होने की संभावना है। शपथ ग्रहण समारोह के बहाने पहली बार मायावती और अखिलेश यादव एक साथ मंच पर दिख सकते हैं। अबतक किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम में दोनों साथ नहीं नजर आए हैं। इसके साथ ही लालू यादव के बेटा तेजस्वी यादव, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई महासचिव सुधाकर रेड्डी, डी. राजा, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला मंच पर दिखेंगे। अभिनेता से नेता बने कमल हासन भी समारोह में शामिल होंगे। वहीं बीजेपी ने शपथ ग्रहण समारोह के बहिष्कार का ऐलान किया है।एचडी कुमारस्वामी आज शाम 4.30 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। कुमारस्वामी के साथ कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष जी परमेश्वर डिप्टी सीएम पद की शपथ लेंगे। विधानसभा के स्पीकर का पद भी कांग्रेस को मिला है, जबकि डिप्टी स्पीकर जेडीएस से होगा। गुरुवार को केआर रमेश कुमार को स्पीकर चुना जाएगा। 23 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे के बाद 24 मई को विधानसभा में बहुमत साबित करेंगे। विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के बाद कैबिनेट विस्तार किया जाएगा।मंगलवार को जेडीएस और कांग्रेस के बीच लंबी बैठक के बाद कर्नाटक में मंत्रिमंडल का फॉर्मूला भी तय हो गया। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जी परमेश्वर को डिप्टी सीएम बनाया जाएगा। कांग्रेस को कुल 22 मंत्रिपद मिलेंगे। वहीं सीएम सहित जेडीएस के सरकार में कुल 12 मंत्री होंगे। विधानसभा भवन परिसर में शपथ ग्रहण समारोह होगा। शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियां पूरी हैं। जेडीएस ने विधानसभा के बाहर पूरे इलाके को कुमारस्वामी और देवगौड़ा के पोस्टरों से पाट दिया है।आपको बता दें कि कर्नाटक में येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के बाद अब जेडीएस के कुमारस्वामी कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने जा रहे हैं। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए 12 मई को मतदान हुए थे, जबकि 15 मई को नतीजे आए थे। इसमें 104 सीटें जीतकर बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, जबकि कांग्रेस को 78 सीटों और जेडीएस को 37 सीटों पर जीत मिली थी। इस चुनाव में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला, जिसके चलते बीजेपी ने सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करके सरकार बना ली थी, लेकिन येदियुरप्पा विधानसभा में बहुमत साबित करने में विफल रहे। इसके बाद जेडीएस और कांग्रेस मिलकर सरकार बनाने जा रहे हैं। दोनों के कुल विधायकों की संख्या बहुमत से भी ज्यादा है।