OMG! टोल बूथ पर कॉर्ड से 40 रुपये की जगह काटे 4 लाख

मंगलुरु (14 मार्च): केंद्र सरकार भले ही डिजिटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने की बात कह रही हो, लेकिन ऐसे में यह भी तय है कि इसमें होने वाली धोखाधड़ी से बचना काफी जोखिम भरा है। ऐसी ही एक खबर कोच्चि-मुंबई नेशनल हाईवे से आई है, जहां पर गुंडमी टोल गेट पर डॉक्टर ने 40 रुपये के टोल के लिए टोल अटेंडेंट को अपना डेबिट कार्ड दिया, लेकिन अटेंडेंट ने 40 की जगह 4 लाख रुपये काट लिए।

मैसूर के डॉक्टर, जिन्हें पुलिसवाले डॉक्टर राव के नाम से जानते-पहचानते हैं, रात करीब 10:30 बजे अपनी कार से मुंबई जा रहे थे। उन्होंने 40 रुपए का टोल काटने के लिए अटेंडेंट को अपना डेबिट कार्ड थमाया, जिसके बाद उन्हें उसकी रसीद भी दी गई, जिसपर उन्होंने ध्यान नहीं दिया।

जब डॉक्टर के पास अकाउंट से 4 लाख रुपए कटने का टेक्स्ट मेसेज आया तब उन्होंने टोल गेट स्टाफ को इसकी जानकारी दी। डॉक्टर ने दो घंटों तक अपने पैसे वापस पाने की कोशिश की, लेकिन स्टाफ ने अपनी गलती नहीं मानी। जिसके बाद डॉक्टर ने पुलिस थाने पहुंचे और शिकायत दर्ज करवाई। रात 1 बजे शिकायत दर्ज करवाने के बाद वह हेड कॉन्स्टेबल के साथ वापस टोल गेट पर पहुंचे और आखिरकार बूथ ने माना कि अटेंडेंट ने गलत टोल राशि काट ली थी और चेक से उसे वापस किए जाने की बात की। लेकिन, डॉक्टर पूरी राशि कैश में मांगे रहे थे।

इसके बाद कलेक्शन कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्क किया गया और सुबह 4 बजे 3,99,960 रुपयों के भुगतान का इंतजाम कर लिया गया। पुलिस ने बताया, 'आमतौर पर गुमडी टोल गेट से कंपनी का 8 लाख रुपए का कलेक्शन होता है।'