समर्थन पत्र पर दस्तखत करने पहुंचे सिर्फ 50 कांग्रेसी विधायक

नई दिल्ली (16 मई): कर्नाटक ने बीजेपी और कांग्रेस दोनों सरकार बनाने का दावा राज्यपाल के सामने पेश कर चुके हैं। ऐसे में खबर आ रही है कि कांग्रेस किसी भी तरह से अपने विधायकों को एकजुट करके परेड कराने की तैयारी करने में लगी है। इसी कड़ी में उसने समर्थन पत्र पर दस्तखत करने के लिए विधायकों को बुलावा भेजा है।लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, कांग्रेस के समर्थन पत्र पर दस्तखत करने 78 में से 50 कांग्रेस विधायक ही पहुंचे हैं। जिसके बाद कांग्रेस थोड़ी परेशान है। खबर यह भी आ रही है कि कांग्रेस ने अपने और जेडीएस के विधायकों को टूटने से बचाने के लिए बेंगलूरु में एक 120 कमरों का रिसॉर्ट भी बुक करा लिया है।वहीं जोड़तोड़ की खबरों के बीच कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने दावा किया है कि जेडीएस का अपने विधायकों पर पूरा भरोसा है। कोई कहीं नहीं जा रहा है। बीजेपी चाहे जितनी कोशिश कर ले।आपको बता दें कि कर्नाटक चुनावों के परिणामों के बाद किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला। बीजेपी प्रदेश में 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है जबकि कांग्रेस को 78 व जेडीएस को 38 सीटे मिली हैं। वहीं अन्य के खाते में 2 सीटे हैं। कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन देते हुए पार्टी बनाने का प्रस्ताव राज्यपाल के पास रखा है जबकि बीजेपी की तरफ से येदियुरप्पा ने भी गवर्नर के सामने सरकार बनाने का दावा पेश किया है।