कुमारस्वामी का बीजेपी पर बड़ा हमला, कहा- वो एक तोड़ेंगे तो हम दो छीनेंगे

बेंगलुरू (16 मई): कर्नाटक में त्रिशंकु जनादेश के बीच राज्य में सियासी घमासान जोरों पर है और अगली सरकार के लेकर अभी भी सस्पेंस बना हुआ है। बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस के समर्थन से जेडीएस ने राज्यपाल से मुलाकात कर राज्य में सरकार बनाने का अपना दावा पेशकर दिया है। अब यह राज्यपाल के विवेक पर निर्भर करता है कि वो पहले येदियुरप्पा को सरकार गठन का मौका देते है या फिर कुमारस्वामी को। इन सबके बीच कांग्रेस और जेडीएस ने बीजेपी पर अपने विधायकों तोड़ने की कोशिश का आरोप लगाया है।जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने आरोप लगाया है कि बीजेपी हमारे विधायकों को खरीदने के लिए 100 करोड़ रुपए की पेशकश कर रही है. बीजेपी के पास नंबर नहीं हैं, हमारे पास बहुमत का पूरा आंकड़ा है. आपको बता दें कि कुमारस्वामी को जेडीएस विधायक दल का नेता चुना गया है. उन्होंने कहा कि उनके कुछ विधायकों को 100 करोड़ और कैबिनेट मंत्री का पद का ऑफर दिया जा रहा है.कुमारस्वामी ने कहा है कि 2006 में उन्होंने बीजेपी के साथ जाकर गलती की थी, इससे मेरे पिता नाराज़ हुए थे. इसलिए मैं इस बार ऐसा नहीं करूंगा. उन्होंने कहा कि मेरे पास दोनों तरफ से ऑफर था, लेकिन मैंने बीजेपी के साथ ना जाने का फैसला किया है.कुमारस्वामी की बड़ी बातें...बीजेपी के साथ गठबंधन करने का कोई सवाल नहींडी(एस) विधायकों को 100 करोड़ रुपये की पेशकश की जा रही है। यह काला पैसा कहां से आ रहा है ?बेंगलुरू में गवर्नर हाउस में बीजेपी प्रतिनिधिमंडल के साथ देखा गया केपीजेपी का विधायक के शंकरमुझे दोनों तरफ ऑफर था। 2004 और 2005 में बीजेपी के साथ जाने के मेरे फैसले के कारण मेरे पिता के करियर पर एक काला धब्बा लगा थामैं इस काले धब्बे को अब हटाना चाहता हूं। इसलिए मैंने कांग्रेस के साथ जाने का निर्णय कियानॉर्थ से बीजेपी की अश्वमेधा यात्रा शुरू हुई, कर्नाटक में घोड़ों को रोक दिया गया। यह निर्णय अश्वमेधा यात्रा को रोकने के लिए है'ऑपरेशन कमल' फेल हो चुका है। लोग बीजेपी छोड़कर हमारे साथ आने के लिए तैयार हैंयदि आप हमारे से किसी एक को तोड़ने की कोशिश करेंगे तो तो आपसे दोगुना करेंगेयह फर्जी खबर है। मैंने प्रकाश जावेड़कर या किसी बीजेपी नेता से कोई मुलाकात नहीं कीटीडी राजगुड़ा, कांग्रेस विधायक ने दावा किया कि बीजेपी उनको फोन करके रही है। मैंने स्पष्ट रूप से उनसे कहा है कि मुझे फोन न करें