करमापा के अरुणाचल दौरे को लेकर आग बबूला हुआ चीन


नई दिल्ली (5 दिसंबर): तिब्बती धर्मगुरु करमापा को भारत सरकार की तरफ से अरुणाचल प्रदेश जाने की अनुमति देने पर चीन ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। चीन ने कहा है कि इस तरह के कदम से दोनों देशों के बीच के सीमा विवाद में मुश्किलें पैदा होंगी, इसलिए भारत संयम का परिचय दे।

17वें ग्यालवांग करमापा उग्येन त्रिनले दोरजी ने पिछले हफ्ते अरुणाचल प्रदेश की यात्रा की थी, जिसे चीन दक्षिण तिब्बत का हिस्सा बताता है। करमापा की यात्रा के संबंध में पूछे गए एक सवाल के जवाब में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ल्यू कांग ने कहा, चीन-भारत सीमा के पूर्वी हिस्से को लेकर उनके देश की स्थिति स्पष्ट और स्थिर है।

उम्मीद की जाती है कि भारत ऐसा कोई काम नहीं करेगा जिससे दोनों देशों के बीच के सीमा विवाद में मुश्किलें पैदा हों। दोनों देशों के बीच संबंधों के विकास के लिए जरूरी है कि सीमा पर शांति और स्थिरता बनी रहे। यह दोनों देशों के हित में है। प्रवक्ता ने बताया कि सीमा की स्थिति पर दोनों देशों के बीच संवाद बना हुआ है।