शहीद की पत्नी बोली- पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब दे भारत

नई दिल्ली(21 सितंबर): उरी में सेना की कैंप पर आतंकी हमले के बाद देश में पाकिस्तान पर कड़ी कारवाई की मांग की जा रही है। इसी क्रम में करगिल वार में शहीद हुए शहीद अमरुद्दीन की पत्नी मोमना बेगम ने कहा है कि पाकिस्तान से युद्ध में देरी न करे भारत।

- कारगिल में आपरेशन विजय में दिवनपुर साहिनी के सैनिक अमरुद्दीन तीन जुलाई 1999 को पाकिस्तान से युद्ध करते हुए शहीद हुए थे।

-उन्होंने कहा कि बार-बार कायराना हरकत करने से पाक की नापाक हरकतें दुनिया के सामने आ चुकी हैं। अब प्रधानमंत्री को पाक पर तत्काल कड़ा एक्शन लेकर सेना का मनोबल बढ़ाना चाहिए नहीं तो सेना का मनोबल गिरता ही जाएगा। पाकिस्तान को अब उसी की भाषा में जवाब देना चाहिए। पाकिस्तान से युद्ध के अलावा कोई विकल्प अब नहीं बचा है।

- उरी में 18 सैनिकों की शहादत से करगिल युद्ध में शहीद हुए सैनिकों के परिवारीजनों में आक्रोश है। करगिल में आपरेशन विजय में दिवनपुर साहिनी के सैनिक अमरुद्दीन तीन जुलाई 1999 को पाकिस्तान से युद्ध करते हुए शहीद हुए थे।

- शहीद की पत्नी मोमना बेगम ने किसी तरह बच्चों की परवरिश व उनकी शादी की। तत्कालीन सरकार ने गैस एजेंसी दी। उरी हमले पर उन्होंने कहा कि पाकिस्तान बार-बार कायराना हरकत करके भारत के सब्र की परीक्षा ले रहा है। भारत सरकार को तत्काल ठोस कदम उठाकर पाकिस्तान से युद्ध की घोषणा कर देनी चाहिए। एक शहीद की पत्नी का दर्द वह जानती हैं क्योंकि वह खुद इसे झेल रही हैं।