करण जौहर ने कहा, हर सुबह मिलती हैं गालियां, लोग कहते हैं गुड मॉर्निंग GAY

नई दिल्ली(17 जून): फिल्म निर्देशक-निर्माता करन जौहर ने ट्विटर पर निगेटिव कमेंट्स कर परेशान करने वालों के खिलाफ निशाना साधा है। उन्होंने एक आर्टिकल में लिखा है कि हर दिन मेरी शुरुआत गालियों के साथ होती है।

करण ने कहा है कि यूजर्स गुड मॉर्निंग GAY, good morning*** कहते हैं। करन ने कहा कि लगातार ट्रोलिंग का कारण जानने की कोशिश की। मैंने अपने फ्रेंड्स, फैमिली के साथ डिस्कस किया। यहां तक कि मुझे थेरेपिस्ट की मदद लेनी पड़ी। जब भी मैं पाउट करते हुए इंस्टाग्राम पर फोटो पोस्ट करता था लोग मुझे छक्का, गे कहा जाता है। मुझे कहा जाता है- चुप कर ***''। मैं जब भी कुछ कहता हूं तो यही शब्द मुझसे कहा जाता है। अब तो ये मेरे फेवरिट बन गए हैं।

एक मीडिया हाउस के लिए लिखे आर्टिकल में करन ने कहा कि फिल्मी दुनिया से ट्विटर पर सबसे पहले आने वालों में से मैं एक था। '2009 में जब मैंने ट्विटर ज्वाइन किया तो मुझे लगा कि मैं एक ऐसी दुनिया में इंटर कर रहा हूं जहां लोग मुझे पसंद करेंगे, लोग मुझे जानेंगे, मेरे काम को जानेंगे यह अच्छा होगा। सब प्यार की बात करेंगे, कोई नफरत की बात नहीं। शुरुआत में ऐसा ही था। लेकिन फिर वह दौर आया जब सुबह उठते ही मुझे गालियों वाले मैसेज मिलते थे। "hi gay" कहते हैं। मुझे लगातार छक्का कहा जाने लगा। ''

करन ने अपने ही साथ नहीं अन्य हस्तियों के साथ ट्रोलिंग की घटनाओं का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अनुष्का शर्मा का ही उदाहरण लीजिए, मैच हारने में उसने क्या किया था?  ऐसा लगता है कि कुछ गुमराह लोग केवल नफरत फैलाना चाहते हैं और वे अक्सर ऐसा करने के लिए हमें अपनी शोरगुल में शामिल कर लेते हैं।

करन ने कहा कि मेरे थैरेपिस्ट ने कहा था कि मुझे इसके बारे में लिखना चाहिए इसलिए Dear Troller मैं लिख रहा हूं।  आप मुझे जितना बदसूरत समझते हों शायद आप भी उतने ही हों। आप शायद मेरी सेल्फी से इसलिए नफरत करते हों क्योंकि आप खुद में जो देखते हों उसे प्यार न करते हों। आपके पास बेशक कोई काम नहीं होगा और आप अपनी जिंदगी का फस्ट्रेशन मेरे (कुछ और अनलकी लोगों पर) पर निकाल रहे हैं। -लेकिन मैंने बड़ी खुशी से इससे निकलने का रास्ता खोज लिया है। मैं आपसे कहना चाहता हूं कि अब आप मुझे एकदम परेशा नहीं करते। यह मेरे लिए तब परेशानी का कारण होता अगर मैं इसका थोड़ा भी असर अपनी लाइफ पर पड़ने दिया होता।

करन ने लिखा कि 'हो सकता है कि मैं आपकी तरह उदास, अकेला हूं लेकिन मैं यह भी जानता हूं कि मैं आप से कहीं ज्यादा खुशगवार हूं।