कराची कोर्ट ने पाक सरकार को फटकारा कहा- अपनी नाकामियों पर रॉ का पर्दा मत डालो

नई दिल्ली (24 सितंबर): कराची स्थित एंटी टेररिस्ट कोर्ट ने पाकिस्तान के झूठ के पुलिंदे की चिंदियां उड़ाते हुए तीन बेगुनाहों को बाइज्जत बरी कर दिया है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की लीड पर पुलिस ने तीन लोगों को भारतीय खुफिया एजेंसी 'रिसर्च ऐंड एनालिसिस विंग (रॉ)' का एजेंट होने के फर्जी आरोप में गिरफ्तार किया था।

पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक प्रमुख पाक अखबार के मुताबिक, कराची स्थित एंटी टेररिस्ट कोर्ट ने अवैध हथियार और विस्फोटक रखने के फर्जी मामलों मामलों में तीनों को बरी कर दिया। तीनों युवकों की पहचान ताहिर उर्फ लांबा, जुनैद खान और इम्तियाज के रूप में की गई है। इन्हें पिछले साल अप्रैल में कराची में गिरफ्तार किया गया था। पुलिस का आरोप था कि ये मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) से जुड़े हुए हैं और इन्हें रॉ ने प्रशिक्षिण दिया है।

कोर्ट ने पाकिस्तानी अभियोजन पक्ष को जमकर फटकार लगाई और कहा स्टेट अपनी नाकामियों पर पर्दा डालने के लिए रॉ के नाम का फर्जी इस्तेमाल करना बंद करे। बिना सुबूत के किसी भी शख्स को रॉ का एजेंट बता देना खतरनाक है।