कपिल सिब्बल का पलटवार, मोदी जी की नहीं, ईश्वर की मर्जी से बनेगा राम मंदिर

नई दिल्ली ( 6 दिसंबर ): अयोध्या मामले पर एकबार फिर राजनीति गरम हो गई है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल ने बुधवार को कहा कि वह कभी भी सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील नहीं थे। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर जवाबी हमला करते हुए कहा कि ' राम मंदिर मोदी जी की मर्जी से नहीं बल्कि भगवान की इच्छा से बनेगा।' 

कपिल सिब्बल का कहना है कि अयोध्या में राम मंदिर तभी बनेगा, जब ईश्वर की इच्छा होगी। सिब्बल ने कहा कि राम मंदिर मोदी जी के कहने से नहीं बनेगा, मामला कोर्ट में है। जब भगवान चाहेगा, तभी राम मंदिर बनेगा।

पीएम मोदी के हमलों का जवाब देते हुए सिब्ब्ल ने कहा, 'हम भगवान पर भरोसा करते हैं, हमें आप पर भरोसा नहीं है मोदी जी। आप राम मंदिर नहीं बनाने जा रहे हैं, मंदिर तभी बनेगा जब ईश्वर की मर्जी होगी। इसका फैसला कोर्ट करेगा।'

सिब्बल ने कहा कि 'हमारे प्रधानमंत्री कभी-कभी बिना कुछ जाने कमेंट कर देते हैं। अमित शाह और पीएम ने कहा कि मैंने सुन्नी वक्फ बोर्ड का प्रतिनिधित्व किया। जबकि मैं कभी सुन्नी वक्फ बोर्ड का वकील नहीं रहा।'

सिब्बल ने सवाल किया कि उनके कोर्ट जाने और किसी का प्रतिनिधित्व करने से क्या देश की गंभीर समस्याएं सुलझ जाएंगी। अगर हां, तो पीएम को बताना चाहिए। बयानबाजी से देश का भला नहीं होगा, सिर्फ हमारे देश में विवाद बढ़ जाएंगे।

सिब्बल ने कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ध्यान नहीं दिया कि मैंने सुप्रीम कोर्ट में कभी भी सुन्नी वक्फ बोर्ड का प्रतिनिधित्व नहीं किया। इसके बाद भी उन्होंने एक बयान के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को धन्यवाद दिया। पीएम से गुजारिश है कि वे आगे थोड़ा सावधान रहें।'