'कांबली में थी उनके स्कूल के दोस्त तेंदुलकर से ज्यादा प्रतिभा...'

नई दिल्ली (8 मई): भारत को पहला विश्व कप दिलाने वाले पूर्व कप्तान कपिल देव ने सफल खिलाड़ियों के माता पिता के सम्मान के लिए आयोजित कार्यक्रम में सचिन और विनोद कांबली का उद्धाहरण दिया। उन्होंने पारिवारिक आधार की अहमियत के बारे में बात करते हुए बताया कि कैसे सचिन मास्टर ब्लास्टर बन गए और उनके स्कूल के दोस्त विनोद कांबली गायब हो गए।

कपिल ने कहा, ‘‘उन दोनों ने एक साथ शुरुआत की और दोनों में समान प्रतिभा थी। कांबली संभवत: अधिक प्रतिभावान था लेकिन उनकी सहायक प्रणाली, घर का माहौल और उनके मित्र संभवत: सचिन से बिलकुल अलग थे। हम सभी को पता है कि बाद में क्या हुआ। सचिन 24 साल तक देश के लिए खेला और कांबली गायब हो गया क्योंकि वह अपने करियर के शुरुआत में मिली सफलता की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाया। प्रतिभा एक चीज है, लेकिन खिलाड़ी को इससे अधिक की जरूरत है। मित्रों, माता पिता, भाई, बहन, स्कूल का समर्थन जरूरी है।’’