कंसास शूटिंग: अमेरिका बोला- यहां रहने वालों को डरने की जरूरत नहीं

नई दिल्ली(28 फरवरी): अमेरिका के कंसास में मारे गए 32 वर्षीय भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला का पार्थिव शरीर मंगलवार तड़के एयर इंडिया के विमान से हैदराबाद लाया गया। यहां से एंबुलेंस के जरिए इसे उनके उनके घर तक ले जाया गया। इसकी पूरी व्यवस्था भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से की गई थी।

- भारत ने अमेरिका से इस हत्‍या की जांच जल्‍द से जल्‍द करवाने की भी अपील की है। इस हत्‍या को डोनाल्‍ड ट्रंप की नई नीतियों से जोड़कर भी देखा जा रहा है। व्‍हाइट हाउस के सीन स्‍पाइसर ने प्रेस को संबोधित करते हुए इस घटना को चौंकाने वाली घटना बताया है।

- व्‍हाइट हाउस के सीन स्‍पाइसर ने प्रेस को संबोधित करते हुए इस घटना को चौंकाने वाली घटना बताया है। स्‍पाइसर का कहना है कि अमेरिका में रह रहे लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है, फिर वह चाहे किसी भी धर्म को मानने वाले ही क्‍येां न हों। उन्‍होंने कहा कि अमेरिकी सरकार यहां बसे नागरिकों को धर्म चुनने और अपने मुताबिक पूजा-अर्चना करने का अधिकार देती है। उनके मुताबिक श्रीनिवास की हत्‍या की खुद राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप कड़ी निंदा की है।

- भारतीय इंजीनियर की हत्या पर केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी घटना की निंदा की है। उन्होंने घटना पर हैरानी जताते हुए कहा कि उनकी संवेदनाएं पीड़ित परिवार के साथ हैं। इस बीच उन्‍होंने इस हिंसा के दौरान लोगों को बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डालने वाले ग्रीलॉट काे हीरो बताते हुए उनकी तारीफ की है। साथ ही उन्‍होंने उनके जल्‍द सही होने की भी कामना की है। कंसास में गोलीबारी के दौरान उन्‍होंने ही अपनी जान की परवाह न करते हुए वहां मौजूद लोगों की जान बचाई थी।