कानपुर रेल हादसे की साजिश का मुंबई कनेक्शन

इंद्रजीत, मुंबई (18 जनवरी): जौनपुर के जिस वसंत कुमार ने सबसे पहले इस साजिश के बारे में एजेंसियों को बताया, उसका दावा है कि वो साजिशकर्ताओं के चंगुल से भागकर आया है। सबसे पहले आकर उसने कुर्ला में बीजेपी के दफ्तर में जाकर सारी जानकारी दी। वहां मौजूद सुभाष गुप्ता ने रेलवे के SIB स्टाफ को सूचित किया। जिसके बाद आरपीएफ ने खुद भी उससे पूछ्ताछ की और ATS को भी सूचित किया।

मुंबई में पिछले दिनों वसंत कुमार नाम के युवक ने रेल हादसे करवाने के लिए बनारस में ट्रेनिग दिए जाने की सूचना दी थी। जौनपुर निवासी वसंत के मुताबिक उसे पटना से सुरेश नाम के शख्स ने संपर्क कर 70 हजार रुपये कमाने का लालच दिया था। बदले में उसे रेल हादसा करवाना था। रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स को दिए अपने बयान में वसंत ने ये भी दावा किया था कि बनारस में एक जगह पर सुरेश ने उसके जैसे 8 और लोगों को Track keys और Track joint plates  हटाने की ट्रेनिंग भी दी थी।

वसंत के मुताबिक 26 और 27 दिसंबर 2016 को दी गई। उस ट्रेनिंग के दौरान साथ में ट्रेनिंग के रहे विनोद और संतोष ने नवंबर में कानपुर में हुए रेल हादसे को अपना सफल ऑपरेशन बताया। बदले में उन्होंने सुरेश से  70 हजार रूपये मिलने का दावा भी किया था। वसंत के मुताबिक उस रात वो सो नहीं सका और वहां से भाग कर मुंबई आ गया।