499वें टेस्ट के बाद अब 500 वें टेस्ट का गवाह बनेगा कानपुर

नई दिल्ली(21 सितंबर): टीम इंडिया 22 सितंबर से कानपुर में न्यू जीलैंड के खिलाफ अपना 500वां टेस्ट मैच खेलेगी। भारतीय टीम ने अपना 499वां मैच हाल ही में वेस्ट इंडीज के खिलाफ खेला था, लेकिन यह संयोग ही है कि कानपुर का ग्रीनपार्क स्टेडियम 499वें टेस्ट मैच के बाद 500वें मैच का गवाह बनेगा। 1960-61 में भारत-पाकिस्तान के बीच खेले गए क्रिकेट इतिहास के 499वें टेस्ट का आयोजन भी इसी मैदान पर हुआ था।

- इस टेस्ट मैच में पाकिस्तानी टीम की कप्तानी फजल महमूद के हाथ थी, जबकि धाकड़ बल्लेबाज नारी कॉन्ट्रैक्टर भारत की कमान संभाल रहे थे। इस मैच का नतीजा ड्रॉ रहा था। उस वक्त में दोनों टीमों के लिए मैच ड्रॉ खेलना भी प्रतिष्ठा की बात हुआ करता था। इस मैच में तब के खब्बू बल्लेबाज पॉली उमरीगर ने भारत की ओर से शतकीय पारी खेली थी, जबकि एम.एल जयसिम्हा ने 99 रन बनाए थे। वह क्रिकेट इतिहास में 99 के स्कोर पर आउट होने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने थे। पाकिस्तान की ओर से हनीफ मोहम्मद ने ओपनिंग की थी। 

- इस मैच के आखिरी दिन भारत ने पाक टीम को समेटने के लिए नौ गेंदबाजों को आजमाया, लेकिन पाकिस्तानी बल्लेबाजों के जुझारू प्रदर्शन के चलते यह मैच ड्रॉ हो गया। अब्बास अली बेग, विजय मांजरेकर और जयसिम्हा ने भी इस मैच में गेंदबाजी में हाथ आजमाए थे।

- इस ऐतिहासिक टेस्ट मैच में खेलने वाले हनीफ मोहम्मद, फजल महमूद और हनीफ के भाई मुश्ताक, तीनों ऐसे खिलाड़ी थे जो आजादी के बाद भारत से ही पलायन कर पाकिस्तान गए थे। अलीमुद्दीन ने तो भारत में रणजी ट्रॉफी के मैच भी खेले थे।