कन्हैया की अगुवाई में उमर, अनिर्बान की रिहाई को लेकर निकला मार्च

नई दिल्ली (15 मार्च): जेएनयू में देश विरोधी नारे लगाने के आरोपी छात्र उमर खालिद और अनिर्बान की रिहाई के लिए कन्हैया कुमार की अगुवाई में छात्रों ने संसद की तरफ मार्च किया।

मार्च के दौरान कन्हैया ने भाषण दिया, जिसका 4 लोगों ने विरोध किया। पुलिस ने चोरों को हिरासत में ले लिया है। मार्च के दौरान कन्हैया ने कहा कि अगर आप देशभक्त हैं तो आपका बच्चा भी देशभक्त होगा। कुछ लोग आए हैं जिनका काम है देश में अराजकता पैदा करना। ये लोग संसद में भी अराजकता पैदा कर रहे हैं। जिस तरीके से जेएनयू में हमला किया है, अलीगढ़ पर हमला किया है, ये हमला लोकतंत्र पर हमला है। इसे हम बर्दाश्त नही करेंगे।

वहीं अरुंधती रॉय ने कहा कि यह सरकार बोलने वालों को एंटी नेशनल करार दे रही है। आर्मी को अपने ही लोगों के खिलाफ तैनात किया जा रहा है। सरकार ने मुसलमानों के खिलाफ जंग छेड़ रखी है और हम इस जंग को जीतेंगे। अरुंधती ने अनिर्बान, खालिद उमर और प्रो. गिलानी को रिहा करने की मांग की। जेएनयू छात्र संघ की उपाध्यक्ष शहला राशिद शोरा ने कहा कि बेंगलूरू और हैदराबाद में भी इसी तरह का प्रदर्शन होगा, जहां पर छात्रों के खिलाफ प्रतिशोध के विरोध में विश्वविद्यालय हमारे समर्थन में आया है।