JNU में पढ़ने वाले देशद्रोही नहीं हो सकते- कन्हैया

नई दिल्ली (4 मार्च): तिहाड़ जेल से रिहा हुए जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जेएनयू कैंपस को बदनाम करने की साजिश की गई। लेकिन अफजल की बात पर एक बार फिर गोलमोल जवाब देकर टाल दिया। कन्हैया ने कहा कि मेरा आदर्श अफजल गुरु नहीं, रोहित वेमुला है।

कन्हैया ने क्या कहा > मैं नेता नहीं, विद्यार्थी हूं। हम देश की एकता और अखंडता को मजबूत करना चाहते हैं। > देशद्रोह के मामले में आरोपी कन्हैया ने कहा कि संविधान और अदालत पर उनका पूरा भरोसा है। > उन्होंने कहा कि जेएनयू में पढ़नेवाला कोई भी छात्र देशद्रोही नहीं हो सकता, काली घटा छटेगी और न्याय होगा। > जेएनयू के खि‍लाफ योजनाबद्ध साजिश की गई है, लेकिन हमारा किसी से कोई मतभेद नहीं है, हां मनभेद जरूर है। > पीएम मोदी और शिक्षा मंत्री संविधान के अनुसार चलें। > कन्हैया ने कहा कि कुछ चैनलों ने जेएनयू की छवि खराब की।