कन्हैया पर लड़की से बदसलूकी का आरोप, भरा था जुर्माना

नई दिल्ली(11 मार्च): जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार नए विवाद में फंस गया है। कन्हैया पर एक महिला स्टूडेंट के साथ बदसलूकी करने का आरोप लगा है। जेएनयू की पूर्व स्टूडेंट ने एडमिनिस्ट्रेशन की वो कॉपी सोशल मीडिया पर पोस्ट की है जिसमें कन्हैया को बदसलूकी का दोषी पाया गया है। 

शिकायत करने वाली पूर्व स्टूडेंट का नाम कमलेश परमेश्वरी है। कमलेश ने पिछले साल जेएनयू एडमिनिस्ट्रेशन से कन्हैया की बदसलूकी की शिकायत थी। कमलेश ने शिकायत और प्रॉक्टर के कन्फर्मेशन लेटर को अपने फेसबुक पर शेयर किया है। ये दोनों लेटर सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं।

कमलेश ने कन्हैया के खिलाफ चीफ प्रॉक्टर को शिकायत की थी। उन्होंने सेंटर फॉर हिस्टॉरिकल स्टडीज की स्टूडेंट थी और ब्रह्मपुत्र हॉस्टल में रहती थी। कमलेश का आरोप था कि जब वह 10 जून, 2015 को मॉर्निंग वॉक के दौरान पूर्वांचल हॉस्टल रोड क्रॉस कर रही थी, तब कन्हैया ने जोर-जोर से कई बातें कहीं।

कमलेश के मुताबिक, 'वह मेरे बिल्कुल पास आ गया था। मुझे धमकाने लगा। उसकी बॉडी लैंग्वेज भी काफी एग्रेसिव थी। उसने मुझे साइको कहा। कन्हैया ने मुझसे कहा कि यह मेरे हॉस्टल का इलाका है। मैं जो चाहूं वो कर सकता हूं। उसने धमकी देते हुए कहा देख लूंगा तेरे को।

लेटर में यूनिवर्सिटी ने क्या कहा?

- 'हमारी ओर से कन्फर्म किया जाता है कि 16 अक्टूबर 2015 को चीफ प्रॉक्टर ने एक ऑर्डर निकाला था। इसके तहत कन्हैया पर 3 हजार का जुर्माना लगाया था।'

कमलेश ने क्या लिखा फेसबुक पोस्ट पर?

- 'मि. कन्हैया कुमार ने विमेन्स डे के मौके पर जेएनयू कम्युनिटी को एड्रेस किया। क्या इत्तेफाक है! प्रॉक्टर ऑफिस का ऑर्डर उसे महिला को धमकाने और उसके साथ मिसबिहेव का दोषी बताता है। मैंने उसके खिलाफ पब्लिकली पेशाब करने, मिसबिहेवियर और धमकाने की शिकायत की थी। मां की एक महीने की तनख्वाह के बराबर जुर्माना भरा है इस जेएनयू के क्रांतिकारी ने।' - 'कई लोग जानना चाहते हैं कि ऑफिसर ऑर्डर की कॉपी पर साइन क्यों नहीं किए गए। मेरी रिक्वेस्ट पर प्रॉक्टर ऑफिस ने ओरिजिनल ऑर्डर की कॉपी का प्रिंट आउट दिया। किसी को कोई डाउट हो तो जेएनयू के प्रॉक्टर ऑफिस में चैक कर सकता है।'

शिकायत, जांच और दोषी करार

- कमलेश की शिकायत के आधार पर जांच कराई गई। इसके आधार पर कन्हैया को पूर्वांचल हॉस्टल रोड पर महिला स्टूडेंट के साथ मिसबिहेव का दोषी पाया गया। - ऑफिस ऑर्डर में कन्हैया पर सख्त एक्शन लेने की बात कही गई। - वीसी ने कहा कि ऐसा एक्शन लिया जाए जिससे कन्हैया का करियर अफेक्टेड न हो। - इसके बाद कन्हैया पर 3 हजार जुर्माना लगाया गया। साथ ही वॉर्निंग दी गई कि ऐसी हरकत दोबारा नहीं होगी।

नोट- सभी फोटो कमलेश की फेसबुक से ली गई हैं