Blog single photo

राजस्थान बॉर्डर से कमलेश तिवारी हत्याकाण्ड के दोनों अभियुक्त गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के पांचवें दिन मंगलवार को मुख्य आरोपियों अशफाक और मोइनुद्दीन को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है। दोनों आरोपियों को गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से अरेस्ट किया गया है। दोनों ने अपना गुनाह कबूल लिया है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 अक्टूबर): उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के पांचवें दिन मंगलवार को मुख्य आरोपियों अशफाक और मोइनुद्दीन को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है। दोनों आरोपियों को गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से अरेस्ट किया गया है। दोनों ने अपना गुनाह कबूल लिया है। इससे पहले गुजरात से पकड़े गए तीन आरोपियों को लखनऊ की कोर्ट में पेश किया गया। तीनों साजिशकर्ताओं को 4 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया।

डीआईजी एटीएस गुजरात हिमांशु शुक्ला के निर्देशन में एसपी बीपी रोजिया, एसीपी बीएस चावड़ा और अन्य अधिकारियों ने कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में वॉन्टेड आरोपियों अशफाक हुसैन जाकिर हुसैन शेख (34) और मोइनुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया। अशफाक सूरत के लिंबायत स्थित ग्रीन व्यू अपार्टमेंट का रहने वाला है जबकि मोइनुद्दीन खुर्शीद पठान उमारवाड़ा स्थित लो कास्ट कॉलोनी, सूरत का रहने वाला है। बता दें कि अशफाक पेशे से मेडिकल रीप्रजेंटेटिव और मोइनुद्दीन फूड डिलिवरी बॉय का काम करता था।

गुजरात एटीएस की ओर जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, दोनों का नाम 18 अक्टूबर को लखनऊ में हुए कमलेश तिवारी हत्याकांड में सामने आ रहा था। हत्याकांड के बाद जब आरोपियों के पास पैसा खत्म हो गया तो उन्होंने अपने परिवारवालों और करीबियों से संपर्क किया। इस दौरान एटीएस गुजरात की टीम उन पर लगातार नजर रख रही थी। सर्विलांस के जरिए पता चलने के बाद आरोपियों को शामलाजी के नजदीक गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से गिरफ्तार कर लिया गया। शुरुआती पूछताछ में आरोपियों ने इस बात को कबूला है कि उन्होंने मृतक द्वारा दिए गए भड़काऊ भाषण की वजह से वारदात को अंजाम दिया। 

दोनों हत्याभियुक्तों की गिरफ्तारी की जानकारी मिलने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस की एक टीम गुजरात रवाना हो गयी है। बताया जा रहा है कि यह टीम दोनों अभियुक्तों को लखनऊ लाकर उनसे पूछताछ करेगी। उसके बाद कमलेश तिवारी की हत्या की असली वजह सामने आ सकेगी। हालांकि, इन दोनों अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए गुजरात, राजस्थान और मध्यप्रदेश की पुलिस के साथ उत्तर प्रदेश पुलिस ने समन्वय बनाया हुआ था। इन हत्याभियुक्तों ने पुलिस की गिरफ्त से बचने के लिए नेपाल भाग जाने की योजना बनायी थी लेकिन पुलिस के सख्त इंतजामों की भनक लगने पर ये इधर-उधर भटकने लगे और आखिर पकड़े गये।Images Courtesy:Google

Tags :

NEXT STORY
Top