कमला मिल कंपाउंड हादसे के बाद होटल मालिकों के खिलाफ लुकआउट नोटिस, 314 स्थानों पर अवैध ढांचे ध्वस्त, 7 होटल सील

मुंबई (31 दिसंबर): कमला मिल कंपाउंड हादसे के बाद बीएमसी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए शनिवार (30 दिसंबर) को 314 स्थानों पर अवैध ढांचों को गिरा दिया और सात होटल सील कर दिये। एक पब में आग लगने से 14 लोगों की मौत होने के एक दिन बाद यह कार्रवाई की गई। बीएमसी ने एक विज्ञप्ति में कहा है कि उसने शहर में और उपनगरों में 624 रेस्तरां, ढाबों और मॉल का निरीक्षण किया और 314 स्थानों पर खड़े अवैध एवं अनधिकृत ढांचों को ध्वस्त कर दिया. इसने कहा, ‘‘बीएमसी ने कार्रवाई के दौरान सात होटल सील कर दिये और 417 एलपीजी सिलेंडर जब्त किए।’’

शनिवार को कमला मिल क्षेत्र में बने अवैध निर्माणों पर कार्रवाई करते हुए बीएमसी ने कई इमारतों को गिरा दिया। कमला मिल की एक बिल्डिंग की तीसरी मंजिल पर लगी आग में 15 लोगों की मौत हो गई थी। कमला मिल क्षेत्र में हुए हादसे के बाद बीएमसी की लापरवाही की बात भी सामने आई थी और पांच जूनियर अफसरों को सस्पेंड भी किया गया है। 

इस बीच, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि लोअर परेल स्थित पब ‘1 एबव’ के सह मालिकों - हितेश सांघवी और जिगर सांघवी के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है। पुलिस ने इस मामले के सिलसिले में शुक्रवार (29 दिसंबर) को सांघवी बंधुओं, एक अन्य सह मालिक अभिजीत मनका और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया।

निरीक्षण अभियान का ब्योरा देते हुए बीएमसी प्रवक्ता राम दोतोंडे ने बताया कि नगर निकाय के करीब 1000 अधिकारियों और कर्मचारियों ने इस कार्य में हिस्सा लिया। दोतोंडे ने बताया कि न सिर्फ मध्य मुंबई बल्कि मलाड और मुलुंद सहित दूर दराज के इलाकों में अनधिकृत होटल और रेस्तरां कार्रवाई का सामना कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि दक्षिण मुंबई में पुलिस मुख्यालय के पास स्थित लोकप्रिय जफरान होटल का एक बड़ा हिस्सा ध्वस्त कर दिया गया। नगर निकाय ने अपने पूरे कर्मचारियों को ड्यूटी पर रहने को कहा है। शिवाजी पार्क, मुलुंद, दहीसर, मलाड, पारसी जिमखाना, ग्रांट रोड, अंधेरी और घाटकोपर में भी अभियान चलाया गया।