हज़ारा समुदाय के प्रदर्शन के चलते काबुल की किलेबंदी

नई दिल्ली (16 मई): अफगानिस्तान के बामियान इलाके को बिजली आपूर्ति किये जाने की मांग को लेकर हज़ारा समुदाय के लोगों ने आज सुबह से काबुल में डेरा दाल दिया है। हज़ारा समुदाय ने कहा है कि अब वो तब तक काबुल की घेराबंदी जारी रखेंगे जब तक सरकार उन्हें मुकम्मल बिजली आपूर्ति की गारंटी नहीं देती। दर असल कुछ साल पहले बामियान होकर पावर सप्लाई लाइन डाली जानी थी, लेकिन पूर्ववर्ती सरकार ने पावर लाइन का रूट बदल दिया। इससे हज़ारा समुदाय के लोगों में आक्रोश भड़क उठा।

छह महीने पहले भी हजारा समुदाय के लोगों ने काबुल में डेरा डाला था। उस वक्त सुरक्षा बलों के साथ संघर्ष के कारण उनका प्रदर्शन हिंसक हो गया था। इस बार हज़ारा समुदाय का प्रदर्शन हिंसक न हो जाये, इसलिए सरकार तमाम एहतियाती इंतजाम किये हैं। हज़ारा समुदाय के काबुल में डेरा डालने और राष्ट्रपति भवन घेरने के कार्य़क्रम को देखते हुए राजधानी के मुख्य मार्गो पर अवरोध लगा दिये गये और राष्ट्रपति भवन की ओर जाने वाले सभी मार्गों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया और भारी संख्या में पुलिस और सैना के जवान तैनात कर दिये गये।

हज़ारा समुदाय के नेता दाउद नाज़ी ने बताया कि पहले पावर लाइन का रूट बामियान होकर था मगर सरकार ने 2013 में उसका रूट बदल दिया। कई बार आश्वासन के बाद भी रूट फिर से बहाल नहीं किया गया है। यही कारण है कि पावर सप्लायी प्रोजेक्ट अपने निर्धारित समय से छह महीने पीछे हो गया है।