कबड्डी टीम की कैप्टन बेच रही बर्तन, प्रतियोगिता के लिए जुटा रही किराया

नई दिल्ली(2 अगस्त): हरियाणा की महिला कबड्डी टीम की कप्तान निर्मला राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए अपनी मां के साथ मिट्टी के बर्तन बेच रही है। घर की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण निर्मला के पास तमिलनाडु जाने तक का किराया नहीं है, वह मिट्टी के बर्तन बेचकर टिकट और रहने के खर्च के पैसे जुटा रही है। 

- चरखी दादरी के प्रजापति मोहल्ले में रहने वाली हरियाणा महिला कबड्डी टीम की कप्तान निर्मला पूरी कोशिश कर रही है कि वह 24 अगस्त को तमिलनाडु में होने वाले राष्ट्रीय कबड्डी प्रतियोगिता में प्रदेश की टीम का प्रतिनिधित्व करे मगर वह तमिलनाडु जा पाएगी, इसको लेकर उसे खुद भरोसा नहीं है। 

- कारण, तमिलनाडु जाना, वहां रहना, एंट्री फीस आदि का खर्चा वहन करने में उसका परिवार सक्षम नहीं है। आर्थिक तंगी के कारण ही वह सोनीपत में हो रही स्टेट रूरल महिला कबड्डी प्रतियोगिता में भी नहीं हिस्सा ले पाई थी। 

- बता दें कि निर्मला ने पिछले दिनों महाराष्ट्र में हुए छठे इंडियन रूरल गेम्स में हरियाणा टीम का प्रतिनिधित्व करते हुए प्रदेश को स्वर्ण पदक दिलाया था।

- निर्मला के पिता फलों की रेहड़ी लगाते हैं तो मां रोज गार्डन के पास फुटपाथ पर मिट्टी के बर्तन बेचकर अपने परिवार का पालन-पोषण कर रही है।

- उनके पास इतने पैसे नहीं कि वे बार-बार निर्मला के अन्य शहरों, राज्यों में आने-जाने, ठहरने व एंट्री फीस का खर्चा वहन कर सकें। हालांकि वे उसे प्रोत्साहित करने के लिए हरसंभव प्रयास करते हैं, लेकिन आर्थिक हालात ऐसे हैं कि मजबूर हो जाते हैं। 

- इसी वजह से निर्मला प्रैक्टिस के बाद अपनी मां के साथ मिट्टी के बर्तन बेचती है।