Blog single photo

जस्टिस बोबडे आज लेंगे 47वें मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ, जानें वकील से CJI बनने तक का पूरा सफर

जस्टिस शरद अरविंद बोबडे आज देश के 47वें चीफ जस्टिस (सीजेआई) पद की शपथ लेंगे। 63 वर्षीय न्यायमूर्ति बोबडे मौजूदा प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई का स्थान लेंगे। सीजेआई गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो गए। परंपरा मुताबिक मौजूदा मुख्य न्यायाधीश पत्र लिखकर अपने बाद इस कार्यभार को संभालने वाले न्यायाधीश के नाम की सिफारिश करते हैं

प्रभाकर मिश्रा, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 नवंबर): जस्टिस शरद अरविंद बोबडे आज देश के 47वें चीफ जस्टिस (सीजेआई) पद की शपथ लेंगे।  63 वर्षीय न्यायमूर्ति बोबडे मौजूदा प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई का स्थान लेंगे। सीजेआई गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो गए। परंपरा मुताबिक मौजूदा मुख्य न्यायाधीश पत्र लिखकर अपने बाद इस कार्यभार को संभालने वाले न्यायाधीश के नाम की सिफारिश करते हैं। जस्टिस गोगोई ने 18 अक्तूबर को राष्ट्रपति को पत्र लिखकर जस्टिस बोबडे के नाम की सिफारिश की थी। जस्टिस एसए बोबडे न्यायमूर्ति एसए बोबडे कई ऐतिहासिक फैसलों में अहम भूमिका निभाई और हाल ही में अयोध्या के विवादित स्थल पर राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ करने के फैसले में भी वह शामिल रहे हैं। माना जा रहा है कि उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति या उनके नाम को खारिज करने संबंधी कलीजियम के फैसलों का खुलासा करने के मामले में वह पारंपरिक दृष्टिकोण अपनाएंगे। 

आपको बता दें कि पिछले दिनों अपने इंटरव्यू जस्टिस बोबडे ने में कहा था कि लोगों की प्रतिष्ठा को केवल नागरिकों की जानने की इच्छा पूरी करने के लिए बलिदान नहीं किया जा सकता। देश की अदालतों में न्यायाधीशों के खाली पड़े पदों और न्यायिक आधारभूत संरचना की कमी के सवाल पर न्यायमूर्ति बोबडे ने अपने पूर्ववर्ती सीजेआई गोगोई की ओर से शुरू किए गए कार्यों को तार्किक मुकाम पर पहुंचाने की इच्छा जताई। जस्टिस बोबडे ने 1978 में नागपुर विश्वविद्यालय से एलएलबी की डिग्री हासिल करने के बाद बार काउंसिल ऑफ महाराष्ट्र में नामांकन कराया। उन्होंने 21 साल तक बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में प्रैक्टिस की और सुप्रीम कोर्ट में भी पेश हुए। उन्हें 1998 में वरिष्ठ वकील के रूप में नामित किया गया और बाद में मार्च, 2000 में बॉम्बे उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया था।

जस्टिस बोबडे के बारे में मुख्य बातें...

- जस्टिस शरद अरविंद बोबडे का जन्म 24 अप्रैल, 1956 को महाराष्ट्र के नागपुर में हुआ था

-  नागपुर विश्वविद्यालय से बी.ए. और एल.एल.बी डिग्री ली है

- 1978 में जस्टिस बोबडे ने बार काउंसिल ऑफ महाराष्ट्र को ज्वाइन किया था 

- इसके बाद बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में लॉ की प्रैक्टिस की, 1998 में वरिष्ठ वकील बने

-  2000 में जस्टिस बोबडे ने बॉम्बे हाईकोर्ट में बतौर एडिशनल जज पदभार ग्रहण किया

-  इसके बाद वह मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने

-  2013 में सुप्रीम कोर्ट में बतौर जज कमान संभाली

- जस्टिस एस. ए. बोबड़े 23 अप्रैल, 2021 को रिटायर होंगे

- 18 नवंबर को जस्टिस बोबडे बतौर चीफ जस्टिस शपथ लेंगे

- मौजूदा CJI रंजन गोगोई ने उनके नाम की सिफारिश की थी

- राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनके नाम की मंजूरी दे दी है

- जस्टिस बोबडे आधार कार्ड, दिल्ली-NCR में पटाखों पर बैन समेत अन्य ऐतिहासिक फैसलों का हिस्सा रहे हैं।  

(Image Source: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top