जस्टिस जेएस केहर होंगे देश के अगले मुख्य न्यायधीश, 4 जनवरी को लेंगे शपथ


नई दिल्ली (6 दिसंबर): जस्टिस जेएस केहर देश के अगले मुख्य न्यायधीश होंगे। वह चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की जगह लेंगे। खबर के अनुसार, जस्टिस केहर 4 जनवरी को चीफ जस्टिस पद की शपथ लेंगे।

कौन हैं जस्टिस जेएस केहर:

पूरा नाम जगदीश सिंह केहर

उत्तराखंड, कर्नाटक हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रहे:

13 सितंबर 2011 को सुप्रीम कोर्ट के जज बने

4 जनवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट के पहले सिख चीफ जस्टिस बनेंगे:

महत्वपूर्ण केस:
2जी घोटाला, अरुणाचल में पुरानी सरकार बहाल की, सहारा मामला, 24 हफ्ते में गर्भपात की अनुमति।

खास बात:
सुप्रीम कोर्ट में एक मात्र सिख जज। जब सरदारों पर चुटकले वाली याचिका आई तो सीजेआई ने कहा, हम जस्टिस केहर को ही ये केस भेजते हैं। वे बेहतर फैसला दे पाएंगे।

वॉट्सएप पर केंद्र से मांगा जवाब:
वॉट्सएप द्वारा यूजर्स की जानकारी फेसबुक के साथ साझा करने के मामले पर दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब मांगा है। याचिका में आरोप है कि वॉट्सएप की नई पॉलिसी में यूजर्स के अधिकारों के साथ खिलवाड़ होगा। इस पर कोर्ट ने संबंधित विभागों से 14 सितंबर तक जवाब देने को कहा है।

छोटी बेंच ने बड़ी को दी कानूनी नसीहत:
जस्टिस जे चेलामेश्वर की अगुआई वाली दो सदस्यीय बेंच ने जस्टिस जेएस केहर की अगुआई वाली तीन सदस्यीय बेंच को मंगलवार को कुछ कानूनी नसीहतें दीं। केहर की अगुआई वाली तीन सदस्यीय बेंच को दो सदस्यीय बेंच के एक फैसले में मत में अंतर के मामले का हल निकालने का जिम्मा सौंपा गया था। यह फैसला जस्टिस चेलामश्वर और एएम सप्रे की बेंच ने दिया था। जजों के फैसले में मतभेद व्यापमं घोटाले में दागी पाए गए एमबीबीएस डॉक्टरों को दी जाने वाली सजा के मामले में सामने आया था। जस्टिस चेलामेश्वर और सप्रे ने पाया कि कई अयोग्य लोगों ने एमबीबीएस की सीटें हासिल कीं। जस्टिस चेलामेश्वर की राय थी कि ऐसे डॉक्टरों को अपनी एमबीबीएस डिग्री बचाने के लिए कुछ वक्त पर स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में चैरिटी करना चाहिए। जस्टिस सप्रे का कहना था कि इन डिग्रियों को खारिज करना चाहिए।